पंजाब में हर घंटे एक व्यक्ति हो रहा कैंसर का शिकार

चंडीगढ़: केंद्रीय पूल में सर्वाधिक खाद्यान देकर कृषि कर्मण अवार्ड हासिल करने वाले पंजाब की भयावह तस्वीर सामने आई है। पंजाब में पिछले करीब एक दशक से चुनावी मुद्दा बना कैंसर तेजी से पांव पसार रहा है। राज्य में 24 घंटे में औसतन 24 व्यक्तियों में कैंसर रोग की पहचान की जा रही है। यह हालात तब हैं जब राज्य सरकार प्रदेश में कैंसर राहत कोष का गठन कर चुकी है और प्रदेश के मंत्रियों द्वारा अपने निजी कोष से हर साल कैंसर राहत कोष में अनुदान दिए जाने के दावे किए जा रहे हैं।

प्रदेश में करीब एक दशक पहले दस्तक देने वाला कैंसर राज्य के प्रत्येक जिले में अपने पांव पसार चुका है। पंजाब सरकार ने विधानसभा के पटल पर पिछले तीन वर्ष के दौरान कैंसर रोगियों का ब्यौरा पेश किया है। इसमें कोई भी जिला ऐसा नहीं है जहां पिछले तीन वर्ष के दौरान कैंसर से कोई मौत नहीं हुई है।

रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2015 में जहां 8173 कैंसर रोगियों की शिनाख्त हुई वहीं 2016 में यह आंकड़ा बढ़कर 8925 तक पहुंच गया। वर्ष 2017 में भी कैंसर के शिकार होकर 8799 लोगों ने सरकारी केंद्रों में अपना पंजीकरण करवाया। पंजाब मालवा पट्टी में कैंसर रोग लगातार अपनी पकड़ बनाए हुए है। यहां से उपचार के लिए राजस्थान व अन्य स्थानों पर जाने वाले रोगियों की संख्या में कोई खास कमी दर्ज नहीं की जा रही है। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा के अनुसार पंजाब सरकार द्वारा कैंसर रोगियों को संबंधित अस्पतालों में मुफ्त उपचार सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार तथा पंजाब सरकार के सहयोग से 60 व 40 के अनुपात पर पंजाब के होशियारपुर व फाजिल्का में 50 बिस्तरों वाला टर्शरी कैंसर केयर अस्पताल बनाया जा रहा है।

इसके अलावा मुख्यमंत्री पंजाब कैंसर राहत कोष योजना के तहत पंजाब में रहने वाले कैंसर पीडि़तों को डेढ़ लाख रुपए तक की कैशलेस सहायता प्रदान की जा रही है। अब तक पंजाब सरकार द्वारा राज्य के 46 हजार 127 कैंसर रोगियों के उपचार हेतु 588 करोड़ रुपए की धनराशि संबंधित अस्पतालों को जारी की जा चुकी है।

महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर बढ़ने की आशंका

पंजाब सरकार की रिपोर्ट में पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने कहा कि विशेषज्ञों ने निकट भविष्य में महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के मामले बढ़ने की आशंका जताई है। इसके चलते जिला मानसा तथा बठिंडा में 11 से 13 साल तक की 9672 लड़कियों को एच.पी.वी. वैक्सीन दी गई है।

पिछले वर्ष का जिलावार आंकड़ा

अमृतसर-847, बरनाला-238, बठिंडा-633, फतेहगढ़ साहिब-153,फरीदकोट-278,फिरोजपुर-337, फाजिल्का-284,गुरदासपुर-539, होशियारपुर-360, जालंधर-505,कपूरथला-217,लुधियाना-842, मानसा-354,मोगा-399,मुक्तसर सा, पटियाला-724,पठानकोट-138,रूपनगर-107,शहीद भगत सिंह नगर-130,साहिबजादा अजीत सिंह नगर-108,संगरूर-764,तरनतारन-452।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper