पढाई के बाद ही, 2 बीघे जमीन में शुरू किया जीरा का खेती, अपने तरकीब से साल का कमाते है इतने करोड़

जीवन में या किसी भी कार्य में सफलता तभी मिलती है जब हम कड़ी मेहनत करते है। हमारी मेहनत ही हमे बुलंदियों पर पहुँचती है। आपको बता दे आजकल हमारे देश मे खेती में हर व्यक्ति की रुचि बढ़ जा रही है। अगर गौर करे तो इसमें बड़े से बड़े लोग भी पीछे नहीं है। आज की यह कहानी एक ऐसे शख्स की है जिन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की शिक्षा सम्पन्न कर के 2 बीघे में ही खेती का शुरुआत कर दी थी। और अब यह शख्स 60 करोड़ रुपये साल में कमा रहे हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दे योगेश जोशी राजस्थान के जालेर के निवासी हैं। उन्होंने ग्रैजुएशन तक पढ़ाई कि है। उनके परिवार वाले चाहते थे कि, वह कोई गवर्मेंट जॉब की तैयारी करें। लेकिन उनकी रुचि खेती में थी इसलिए उन्होंने खेती को चुना और ग्रैजुएशन करके उसमे जुड़ गए। वह खेती तो करना चाहते थे इसलिए उन्होंने इसके लिए जैविक खेती के बारे में अधिक जानकारी इकट्ठा किया। उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी किया। इसमें उनके पिता एवं चाचा ने भी उनका खूब साथ दिया। उन्होंने अपना डिप्लोमा ऑर्गेनिक फार्मिंग से किया। सारी जानकारी इकट्ठा कर उन्होंने साल 2009 में अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए खेती की।

शुरुआती दौर में उन्हें बहुत से कठिनाइयों का सामना करना पड़ा लेकिन बाद में उन्हें सफलता भी मिली। उन्होंने सोच समझ कर अधिक मुनाफा करने वाले फसल की खेती का निश्चय किया। तब उन्होंने जीरा की खेती शुरू की। 2 बीघे में उन्होंने इसकी खेती की लेकिन, इसमें असफल रहे। फिर भी उन्होंने हार नहीं माना और उसमें लगे रहे। आगे उन्होंने 7 किसानों को एक साथ लिया फिर एक बार फिर से लक अजमाया। कृषि वैज्ञानिकों की मदद से जैविक खेती शुरू की।

वह उसमें सफल हुए और अब अधिक लाभ कमा रहे हैं। अब उनके साथ 3 हजार लोग जुड़ चुके हैं और वह लाखो रुपये हर माह कमाते हैं।एक रिपोर्ट के अनुसार योगेश जी की एक प्राइवेट कम्पनी भी है। जिसका नाम ” ऑर्गेनिक प्राइवेट लिमिटेड” है। उनके साथ अब 2 कम्पनी और जोड़ चुकें है। अब उनका सलाना टर्नओवर 60 करोड़ रुपए है। आज वह अपनी इस सफलता से बहुत से लोगों की मदद कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper