पति से थाने में भिड़ीं पत्नियां, साथ रहने की जिद पर अड़ीं, थानेदार ने फिर जो किया उसे जानकर हैरान रह जायेंगे आप

गोरखपुर। सहजनवां क्षेत्र के मकरहट निवासी एक व्यक्ति ने दो शादी कर ली है। पहली पत्नी के घर पर रहने के दौरान दूसरी को भी लेकर घर आ गया। दोनों पत्नियां पति के साथ अकेले रहने की जिद पर अड़ गईं। पहली पत्नी के भाई की शिकायत पर पुलिस ने पति को थाने बुलाया तो पहली पत्नी भी चली आई और थाना में पति के साथ रहने के लिए दोनों आपस में भिड़ गईं। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हुआ और कुछ दिन का समय देकर छोड़ दिया गया।

सहजनवां थाना क्षेत्र के मकरहट निवासी एक युवक दिल्ली में मजदूरी करता है। 2010 में बिहार प्रदेश के सिवान जिले की रहनी वाली महिला से हिन्दू रीति रिवाज से शादी कर लिया। उससे सात वर्ष का एक बेटा तथा चार वर्ष की एक बेटी है। इसी दौरान दिल्ली में रहने वाली आजमगढ़ जनपद की एक विवाहित महिला से प्रेम हो गया। उस महिला की दो बेटी व एक बेटा है। छठ पर्व में पहली पत्नी बच्चों को साथ में लेकर सिवान चली गयी। मौका पाकर पति ने दूसरी पत्नी को घर लेकर आ गया।

जानकारी पर पहली पत्नी मायके से ससुराल मकरहट पहुंच गई और दूसरी पत्नी को घर से निकालने लगी। पति भी दूसरी पत्नी के पक्ष में खड़ा हो गया। घर में रहने को लेकर विवाद होने लगा। पहली पत्नी के भाई ने थाने में शिकायत कर दी। सोमवार को दोनों पत्नियां थाने पहुंचीं और पति के साथ रहने के लिए थाने में ही भिड़ गईं। इसके बाद पुलिस ने पति को हिरासत में ले लिया। बाद में समझौता हुआ कि दूसरी पत्नी 10 दिन बाद दिल्ली चली जाएगी। थानाध्यक्ष नितिन रधुनाथ श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पत्नियों ने समझौता कर लिया है। विवाद का निस्तारण न्यायालय से कराने का निर्देश दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper