पद्मावत पर देशभर में ग़दर

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने संजय लीला भंसाली की बहुचर्चित फिल्म पद्मावत को लेकर उठे विवाद और विरोध प्रदर्शनों को काबू करने में प्रशासन की नाकामी को देश में निवेश और रोजगार के लिए घातक बताया है। केजरीवाल ने बुधवार को ट्वीट कर कहा किकेन्द्र ,राज्य सरकारें और उच्चतम न्यायालय के साथ पूरी मशीनरी अगर एक फिल्म की रिलीज भी सुनिश्चित नहीं कर पा रहीं है तो ऐसे में देश में निवेश की उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि विदेशी निवेशकों की बात तो दूर है घरेलू निवेशक भी निवेश से कतराएंगे।

यह देश की कमजोर होती अर्थव्यवस्था के लिए भी अहितकर है। इससे देश में रोजगार के अवसर भी घटेंगे। मुख्यमंत्री का यह बयान ऐसे समय आया है जब करणी सेना ने बृहस्पतिवार को पद्मावत के रिलीज होने पर उच्चतम न्यायालय के आदेश की अवहलेना करने का ऐलान करते हुए जनता कर्फ्यू का आह्वान किया है। फिल्म के विरोध में कुछ स्थानों पर ¨हसा और आगजनी की घटनाएं भी हो रही हैं। करणी सेना का आरोप है कि फिल्म में रानी पद्मावती के किरदार को गलत ढ़ंग से पेश किया गया है जिससे राजपूतों की भावनाएं आहत हुयी हैं। हालांकि फिल्म निर्माता का कहना है कि फिल्म में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है।

करणी सेना के सैकड़ों समर्थकों ने फिल्म पद्मावत के प्रदर्शन के विरोध में प्रशांत विहार स्थित पीवीआर सिनेमा में तोड़फोड़ की। इस दौरान कम से कम एक दर्जन से अधिक गाड़ियां और टू व्हीलर वाहन क्षतिग्रस्त होने की खबर है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उपद्रवियों को खदेड़ कर स्थिति पर काबू पाया। इस दौरान पुलिस ने मधुबन चौक, पीतमपुरा और रोहिणी की ओेर जाने वाले मुख्य मार्ग को कुछ समय के आवागमन के लिए रोक दिया था। उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी मिलने के बाद यह फिल्म 25 जनवरी को रिलीज हो रही है। विशेष आयुक्त दीपेंद्र पाठक ने बताया कि पुलिस मल्टीप्लेस मालिकों के संपर्क में है और सुरक्षा के लिए अतिरिक्त फोर्स तैनात किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उपद्रव करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। विभिन्न संगठनों द्वारा मिल रही धमकियों के मद्देनजर दिल्ली पुलिस की तरफ से यह प्रबंध किए गए हैं। इसके लिए सभी जिलों के पुलिस प्रमुखों को निर्देश दिए गए हैं कि सभी थानाध्यक्षों को निर्देश दें कि उनके इलाके के सिनेमाघरों के सुरक्षा इंतजाम का जायजा लें। वहां से प्रबंधन के साथ बैठक कर जरूरत के हिसाब से अतिरिक्त सुरक्षा फोर्स मुहैया कराएं। पुलिस ने साफ कर दिया है कि लॉ एंड आर्डर को किसी भी हालत में बिगड़ने नहीं देंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper