पहली अप्रैल से इन बैंकों के ग्राहकों की बदल जाएगी चेकबुक और पासबुक, IFSC कोड भी बदलेंगे

गोरखपुर: यूनियन बैंक आफ इण्डिया में मर्ज कारपोरेशन बैंक व आंध्रा बैंक के करीब 1.50 लाख खाताधारकों की पहली अप्रैल से चेकबुक और पासबुक बदलने के साथ ही शाखाओं के आईएफएससी कोड भी बदल जाएगें। मसलन पुरानी चेक बुक पर भुगतान नहीं होगा। इसके लिए यूनियन बैंक ने सभी शाखाओं में लूज चेक की व्यवस्था करा दी है। ताकि ग्राहकों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इसी प्रकार पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज ओरिएंटल बैंक आफ कामर्श व यूनाईटेड बैंक के खाताधारकों की भी पुरानी चेक बुक काम नहीं करेगी। पहली अप्रैल से उन्हें नए चेकबुक के माध्यम से पैसा निकासी करनी होगी। शाखाओं का आईएफएससी कोड पहले ही बदल गया है।

इलाहाबाद बैंक जो अब इण्डियन बैंक के नाम से जाना जा रहा है। इसके खातेधारकों की चेक बुक व पासबुक आगामी छह माह तक काम करेगी।गोरखपुर क्षेत्र के 86 शाखाओं के आईएफएससी कोड बदले की जानकारी पहले ही 12 लाख खाताधारकों को बैंक ने दी है। डीजीएम अजीत झा ने बताया कि अभी इलाहाबाद बैंक के खातधारकों की चेक बुक व पासबुक आगामी छह माह तक काम करेगी। शाखाओं के आईएफएससी कोड में बदलाव की जानकारी पहले ही खातधारकों को दी गई है। एटीएम कार्ड भी काम करते रहेंगे। केनरा बैंक में मर्ज सिंडीकेट बैंक के खाताधारकों की भी चेक बुक व पासबुक पहली अप्रैल से काम नहीं करेगी। ऐसे में बैंक प्रबन्धन ने खाताधारकों की सुविधा के लिए शाखाओं में विशेष इंतजाम किए हैं।

यूनियन बैंक के क्षेत्रीय प्रबन्धक भोलानाथ का कहना है कि बैंक में मर्ज कॉरपोरेशन बैंक व आध्रा बैंक के करीब 1.50 लाख खाताधारकों को बीते छह माह से एसएमएस अलर्ट भेजकर उन्हें जानकारी दी जा रही है। बावजूद इसके पहली अप्रैल से होने वाले बदलाव के मद़्देनजर सभी शाखाओं में लूज चेक का इंतजाम किया गया है। ताकि खाताधारकों को कोई परेशानी नहीं होने पाए। वे अपने खाते पर लूज चेक ले सकते है। पुरानी चेकबुक पहली अप्रैल से काम नहीं करेगी। आईएफएससी कोड में बदलाव की जानकारी पहले ही खाताधारकों को दी जा चुकी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper