पहले ब्रेकिंग से चैनलों के प्रति विश्वसनीयता घटी है: दिनेश शर्मा

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने सोमवार को कहा कि आज के दौर में सोशल मीडिया ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया को पीछे छोड़ दिया है। सोशल मीडिया को नियंत्रित करना आसान नहीं है।

लखनऊ विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े लोगों को बुलाकर बात की जा सकती है। लेकिन सोशल मीडिया के मामले में अभी ऐसा नहीं है। फ़ेक न्यूज़ की चुनौती से निपटने के लिए सरकार के पास क़ानून बनाने का विकल्प है, लेकिन अगर सरकार ऐसा करेगी तो मीडिया की आज़ादी को सीमित करने का सवाल भी उठेगा।

डॉ. शर्मा ने कहा कि समाचार पहले ब्रेक करने की प्रतिद्वंद्विता के कारण चैनलों के प्रति विश्वसनीयता का भाव घटा है। इसका मतलब ये नहीं है कि सभी फ़ेक न्यूज़ फैला रहे हैं। शर्मा ने कहा, “आज सुबह उठने से लेकर सोने तक मोबाइल बाबा हमारा पीछा नहीं छोड़ रहा है। इसकी वजह से सूचना प्राप्त करने और साझा करने की दिशा में भी परिवर्तन आया है।

इस परिवर्तन की वजह से हमारे पास ये विकल्प नहीं होता कि हम जल्दी से आई सनसनी भरी ख़बर की पुष्टि करें, हम बिना परिणाम की चिंता करे ख़बर को आगे बढ़ाने लगते हैं।  शर्मा ने कहा कि मीडिया का कर्तव्य बढ़ गया है। सत्य ख़बरों को रिपोर्ट करके ही समाज को सही दिशा दी जा सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper