पांच बार भी मां नहीं बन पाई भाभी तो बहन ही हो गई प्रेग्नेंट, सपने सच करने के लिए सगे भाई के बच्चे को दिया जन्म

वॉशिंगटन: पहले के जमाने में अगर कोई महिला मां नहीं बन पाती थी तो इसे समाज से ताने सुनने पड़ जाते थे. हालांकि, अब मेडिकल साइंस (Medical Science) ने काफी तरक्की कर ली है. साथ ही सरोगेसी (Surrogacy) भी चलन में है. वाशिंगटन में रहने वाली 27 साल की हिल्डे पेरिंगेर खुद तीन बच्चों की मां हैं. साथ ही उनके भाई-भाभी के भी चार बच्चे हैं. लेकिन हिल्डे के भाई को एक और बच्चा चाहिए था जिसे उनकी वाइफ कंसीव नहीं कर पा रही थी. ऐसे में हिल्डे ने अपने भाई के लिए सरोगेट मदर बन उनके पांचवे बच्चे को जन्म दिया.

सरोगेसी था सपना

हिल्डे पेरिंगेर ने जनवरी 2021 को अपने भाई 35 साल के इवान शेली और उसकी पत्नी 33 साल की पत्नी केल्सेय के पांचवे बच्चे को जन्म दिया. कपल के पहले से चार बच्चे थे लेकिन उन्हें पांचवी औलाद चाहिए थी. ऐसे में अपने भाई की मदद के लिए हिल्डे आगे आई और सरोगेट मदर बनकर भाई का परिवार पूरा किया. इसे लेकर हिल्डे ने बताया कि वो भी सरोगेट मदर बनना चाहती थी. अब भाई के जरिये उसका भी ख्वाब पूरा हो गया है.

भाभी की जान को था खतरा

हिल्डे के भैया-भाभी के पहले से चार बच्चे थे. लेकिन उन्हें ऐसा लगता था कि ये परिवार अधूरा है. इस वजह से वो पांचवां बच्चा चाहते थे. लेकिन डॉक्टर्स ने साफ़ कर दिया था कि पांचवां बच्चा हिल्डे की भाभी की जिंदगी के लिए खतरनाक है. इस कारण उनके पास सरोगेसी हो एक मात्र ऑप्शन था. अपने भाई के लिए हिल्डे ने उनके बच्चे को नौ महीने तक पालकर जन्म दिया.

एक साल तक किया इंतजार

हिल्डे ने सरोगेसी के लिए 2020 से ही ट्राई करना शुरू कर दिया था. इसके लिए उसने पैसे तो नहीं लिए लेकिन सरोगेसी के सारे प्रोसेस का खर्चा उसके भाई ने ही उठाया. भाई को उसकी पांचवीं औलाद देने के बाद हिल्डे काफी खुश हैं. खुद हिल्डे पहले से तीन बच्चों की मां है. प्रेग्नेंसी के पूरे नौ महीने तक हिल्डे के भाई-भाभी ने उनका ख्याल रखा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper