पाकिस्तानी सेना को कायर कहकर अलकायदा ने निकाली भड़ास, कहा- कश्मीर को अभिन्न अंग बनाने में सफल रहा भारत

कश्मीर। दुनिया के खूंखार आतंकी संगठनों में से एक अल कायदा ने माना है कि कश्मीर अब भारत का अभिन्न अंग है. अलकायदा ने माना है कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर में भारत सरकार को सफलता मिली है. अलकायदा ने ये बयान पाकिस्तानी सेना पर अपनी भड़ास निकालते हुए दिया है. पाकिस्तानी सेना को कायर बताते हुए अलकायदा ने कहा कि उसकी वजह से कश्मीर में दहशतगर्द कम हो रहे हैं. साथ ही उसने ये भी कहा कि भारत कश्मीर में अब सफल हो रहा है.

AQIS की ऑफिशियल मैगजीन के मुताबिक, भारत सरकार की कश्मीर नीति सफल रही है और अलकायदा ने इसके लिए पाकिस्तान को जमकर कोसा है. खूंखार आतंकी संगठन अलकायदा ने करगिल युद्ध में मिली शिकस्त को लेकर भी पाकिस्तानी सेना का मजाक उड़ाया है. आतंकी संगठन का कहना है कि पाक आर्मी डरपोक है और वह आतंकियों को कश्मीर भेज नहीं पा रही है. दरअसल नरेंद्र मोदी सरकार ने साल 2019 में धारा 370 को निष्प्रभावी कर दिया था. इसके बाद अलकायदा ने कश्मीर पर फोकस किया है और वह अफगानिस्तान के जरिए घाटी में आतंकवाद को और बढ़ाना चाहता है. लेकिन भारतीय सुरक्षाबल लगातार आतंकियों का कश्मीर से सफाया कर रहे हैं. नाकामी से तंग आकर अब अलकायदा ने पाकिस्तान पर भड़ास निकाली है.

मैगजीन में कहा गया कि पाकिस्तानी सेना उन दहशतगर्दों का सफाया कर रही है, जिनको कश्मीर के लिए तैयार किया गया था. इस तरह वह भारत को ही फायदा पहुंचा रही है. खूंखार आतंकी संगठन अलकायदा ने करगिल युद्ध में मिली शिकस्त को लेकर भी पाकिस्तानी सेना का मजाक उड़ाया है. मैगजीन में अलकायदा ने मुसलमानों से एकजुट होने का आह्वान करते हुए कश्मीर में समर्थन देने को कहा है.

अलकायदा ने अंसार गजावत-उल-हिंद को कश्मीर का इकलौता सच्चा आतंकी संगठन बताया है. गौरतलब है कि अलकायदा और उससे जुड़े आतंकी संगठनों के हर नापाक इरादे को कश्मीर में सुरक्षाबल नाकाम करते जा रहे हैं. पिछले कुछ वर्षों में सेना ने कई पाकिस्तानी और विदेशी आतंकियों को ढेर किया है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper