पाकिस्तान के हमला करने के आरोपों को भारत ने नकारा

नई दिल्ली: भारत ने पाकिस्तान के उन आरोपों को गैरजिम्मेदाराना और बेहूदा बताते हुए सिरे से खारिज कर दिया जिनमें कहा गया था कि नई दिल्ली पाकिस्तान पर दोबारा हमला करेगा। भारत ने इस्लामाबाद पर क्षेत्र में युद्ध उन्माद को बढ़ावा देने की कोशिश करने का आरोप लगाया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक बयान में कहा, “क्षेत्र में युद्ध उन्माद बढ़ाने की कोशिश करने वाले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के गैरजिम्मेदाराना और निर्थक बयान को भारत खारिज करता है।”

उन्होंने कहा, “यह सार्वजनिक नौटंकी पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों को भारत में हमला करने का संकेत देती प्रतीत हो रही है।” उन्होंने कहा, “पाकिस्तान से उसके कूटनीतिक माध्यमों का उपयोग आतंकवादी हमलों के संबंध में कार्रवाई-योग्य और खुफिया जानकारी साझा करने के लिए कहा गया है।” उन्होंने कहा, “भारत के पास सीमा पार से होने वाले आतंकवादी हमलों के खिलाफ दृढ़ता से और निर्णायक जवाब देने का पूरा अधिकार है।”

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को स्पष्ट बता दिया गया है कि वह खुद को भारत में सीमा पार आतंकवादी हमलों की जिम्मेदारी से दूर नहीं रख सकता है। उन्होंने कहा, “पाकिस्तान को क्षेत्र में अशांति फैला रहे सीमा पार आतंकवाद को खत्म करने जैसे जरूरी मुद्दे पर भड़काऊ बयान देकर उसे अस्पष्ट करने के बजाय उसकी जमीन से संचालित आतंकवाद के खिलाफ विश्वसनीय और स्थाई कदम उठाने की जरूरत है।”इससे पहले, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि कश्मीर में एक ‘दुर्घटना’ होने के बाद भारत पाकिस्तान पर दोबारा हमला करने की कोशिश कर रहा है और यह हमला 16 अप्रैल से 20 अप्रैल के बीच में हो सकता है।

कुरैशी ने मीडिया से कहा कि इस्लामाबाद के पास पक्की खुफिया सूचना है कि भारत पाकिस्तान पर हमला करने की नई योजना बना रहा है। उन्होंने कहा, “मैं जिम्मेदारी से बोल रहा हूं, मैं एक जिम्मेदार पद पर हूं और मुझे पता है जो मैं बोल रहा हूं उसे अंतर्राष्ट्रीय मीडिया भी सुनेगा।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper