पाकिस्तान ने 74 साल पहले अलग हुए भाई से मिलने के लिए सीका खान को वीजा दिया

नई दिल्ली। भारत में पाकिस्तान उच्चायोग ने एक भारतीय वरिष्ठ नागरिक को वीजा जारी किया है, ताकि वह पाकिस्तान में अपने परिवार के सदस्यों से मिल सकें। वह 74 साल पहले 1947 में देश विभाजन के कारण भाई से अलग हो गए थे। दूतावास ने ट्विटर पर घोषणा की, पाकिस्तान उच्चायोग ने सीका खान को उनके भाई, मोहम्मद सिद्दीकी और पाकिस्तान में परिवार के अन्य सदस्यों से मिलने के लिए वीजा जारी किया है।

1947 में अलग हुए दोनों भाई हाल ही में 74 साल बाद करतारपुर साहिब कॉरिडोर में फिर से मिले। करतारपुर कॉरिडोर पर भाई-बहनों का एक-दूसरे से मिलने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिससे सीमा के दोनों ओर के लोगों के आंसू छलक पड़े। अखबार डॉन ने पहले खबर दी थी कि फैसलाबाद जिले के बाहरी इलाके फुगरान गांव के रहने वाले सिद्दीकी का कहना है कि उन्होंने दो साल पहले कनाडा के एक सिख सामाजिक कार्यकर्ता से संपर्क किया था। सामाजिक कार्यकर्ता ने दोनों भाइयों को फिर से मिलाने में मदद की।

रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्दीकी 80 साल के हैं जबकि खान 78 साल के हैं। सिद्दीकी के मुताबिक, उनके भाई और बहन 1947 में अपनी मां के साथ दादा-दादी के घर गए थे। उन्होंने कहा, उस समय गृहयुद्ध चल रहा था और मेरे पिता और परिवार के अन्य सदस्यों ने जान बचाने के लिए तुरंत पलायन करने का फैसला किया और हम पाकिस्तान आ गए। रिपोर्ट में कहा गया है कि आज अपनी घोषणा में पाकिस्तान उच्चायोग ने कहा कि खान ने चार्ग डी अफेयर्स आफताब हसन खान से भी मुलाकात की और मिशन के अधिकारियों के साथ बातचीत की।

सीका खान ने दूतावास में रिकॉर्ड किए गए एक वीडियो संदेश में कहा, मैं बहुत खुश हूं। मुझे वीजा मिल गया है। मैं अब यात्रा करूंगा और (मेरे भाई) से मिलूंगा।
उच्चायोग ने कहा कि दोनों भाइयों की कहानी इस बात का सशक्त उदाहरण है कि कैसे पाकिस्तान द्वारा वीजा मुक्त करतारपुर साहिब कॉरिडोर का ऐतिहासिक उद्घाटन लोगों को एक दूसरे के करीब ला रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper