पालघर में बारिश से बने झरने में नहाने गए थे 13 लड़के, 5 बच्चों की डूबने से मौत

मुंबई: मुंबई से करीब 150 किलोमीटर दूर पालघर जिले के जव्हार के अंबिका चौक इलाके में रहने वाले 13 लड़के गुरुवार को कालमांडवी झरने में नहाने गए थे, लेकिन बारिश के पानी से निर्माण हुए झरने की गहराई का अंदाजा न लगा पाने के कारण इनमें से 5 बच्चे नहाते-नहाते झरने में काफी गहराई में चले गए। तैरना न आने की वजह से ये पांचों बच्चे झरने में डूब गए जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया। वहीं मृतकों के परिजनों में मातम छा गया।

मौके पर स्थानीय पुलिस और फायर ब्रिगेड द्वारा खोजबीन शुरू की गई और देर शाम तक 5 शवों को बाहर निकाला गया। झरने में नहाने गए एक चश्मदीद ने बताया कि बारिश के पानी से यह झरना हर मानसून में तैयार होता है और आस-पास के इलाके के लोग पिकनिक मनाने यहां आते हैं। सभी लड़के झरने के किनारे नहा रहे थे लेकिन कुछ लोग फिसलन की वजह से गहराई में चले गए और यह हादसा हुआ।

पुलिस अधीक्षक कार्यालय के प्रवक्ता सचिन नावडकर ने कहा कि, 13 लड़के उक्त झरना के पास घूमने गए थे, जहां 5 बच्चों की डूबने से मौत हो गई और सभी शवों को बरामद कर लिया गया है। घटना की सूचना मिलते ही जिले के एसपी दत्तात्रेय शिंदे, जिलाधिकारी डॉ. कैलाश शिंदे और अन्य अधिकारियों ने घटना का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान आवाजाही पर पाबंदी है। ये लड़के अपने गांव से 7 किलोमीटर दूर जंगल के रास्ते झरने तक पहुंच गए थे।अधिकारियों ने बताया कि मृतकों की पहचान की जा रही है और जांच जारी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper