पिछड़ों को शीर्ष पर नहीं देख पा रहा विपक्ष: मोदी

नई दिल्ली: संसद में हंगामे और गतिरोध के लिए कांग्रेस पार्टी को जिम्मेदार ठहराते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उसके अहंकार के चलते लोकतंत्र बजट सत्र में निचले स्तर पर पहुंच गया। उन्होंने सांसदों से कहा कि वे लोगों को जाकर बताएं कि विपक्ष ने संसद में किस तरह से काम किया। आपने देखा होगा कि विपक्ष बहुत गुस्से में है। अब यह और भी हिंसक होता जा रहा है। इसकी वजह यह नहीं है कि हमने कोई गलती की है। इसका एकमात्र कारण यह है कि हमारे प्रतिद्वंद्वी बीजेपी की बढ़ती ताकत को पचा नहीं पा रहे हैं।

मोदी ने कहा, वे यह बात हजम नहीं कर पा रहे हैं कि गरीब मां का बेटा प्रधानमंत्री बन गया। वे यह स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं कि पिछड़ी जातियों के लोग भी देश में शीर्ष पदों पर पहुंच सकते हैं। बजट सत्र के दूसरे चरण में कामकाज पूरी तरह ठप रहने पर नाराजगी जताते हुए मोदी ने कहा, ऐसा इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ, जब प्रधानमंत्री के धन्यवाद प्रस्ताव पर भाषण को विपक्ष ने बाधित किया हो। इस भाषण को आमतौर पर विपक्ष शांति से सुनता है, लेकिन कांग्रेस और उसके समर्थकों ने न सिर्फ हंगामा किया, बल्कि मेरा घेराव भी किया।

मोदी ने कहा कि हंगामे के बाद भी मैंने अपना भाषण बंद नहीं किया और एक घंटे की अपनी स्पीच में यह संदेश दिया कि कुछ गैर-जिम्मेदार पार्टियों के बावजूद लोकतंत्र की ताकत मजबूत है। उन्होंने कहा, मैं अपनी स्पीच को पूरा कर यह संदेश देना चाहता था कि लोकतंत्र जिंदा है। अपने सांसदों से 12 अप्रैल को दिन भर का व्रत रखने की अपील करते हुए मोदी ने कहा कि वे अपने क्षेत्र की जनता से बताएं कि संसद में गतिरोध की हकीकत क्या है। मोदी ने कहा, लोगों को बताएं कि कांग्रेस किस तरह से नकारात्मक राजनीति कर रही है। इस मौके पर ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ग्राम स्वराज अभियान पर एक प्रजेंटेशन भी दिया। इस पर सांसदों को एक महीने का कैंपेन चलाने को कहा गया है।

मोदी ने सांसदों से कहा कि वह इस कैंपेन का शेड्यूल तैयार करें और विधायकों समेत अन्य जनप्रतिनिधियों को भी इसमें शामिल करें। उन्होंने सांसदों से कम से कम एक रात अपने क्षेत्र में और खासतौर पर दलित बस्तियों में बिताने को कहा। दलित संगठनों के आंदोलन और पार्टी के ही कुछ सांसदों के सवालिया पत्रों के बीच मोदी ने कहा, डॉ. भीमराव अंबेडकर के प्रति जो सम्मान हमने दिखाया है, वैसा किसी अन्य दल ने नहीं किया है। यह संदेश दलितों तक पहुंचना चाहिए। इससे कांग्रेस की ओर से फैलाई गई नकारात्मकता उजागर होगी। इसके बाद पार्टी वर्कर्स को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि बीजेपी अकेली ऐसी पार्टी है, जो लोकतांत्रिक मूल्यों का पालन करती है और किसी वंश या जाति की राजनीति नहीं करती।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper