पीएनबी का महा घोटाला: एक खरब 13 अरब 51 करोड़ के फर्जी लेनदेन का खुलासा

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: पहली खबर तो यही है कि शेयर बाजार में बुधवार को कारोबारी सत्र में पीएनबी के शेयर 4.1 फीसदी गिरावट के साथ खुले और गिरकर 5.7 फीसदी तक चले गए। बिकवाली की वजह से बैंक का शेयर करीब 8 फीसद टूट गया। ऐसा इसलिए हुआ कि देश के सबसे प्रतिष्ठित बैंकों में शुमार पंजाब नेशनल बैंक में बड़ी धोखाधड़ी का मामला सामने आया है।

बैंक के मुंबई ब्रांच में 1.77 बिलियन डॉलर यानी एक खरब 13 अरब 51 करोड़ 89 लाख 50 हजार रुपये के फर्जी लेनदेन का खुलासा हुआ है। इस खुलासे के बाद शेयर बाजार में पीएनबी के शेयरों की कीमत में काफी गिरावट देखी गई। यह भी आजाद भारत का एक अलग कहानी है। देखना होगा कि यह खेल आखिर कैसे हुआ और इस खेल के खिलाड़ी कौन रहे।

बैंक में इस तरह के फर्जी लेन दें के खुलासे के बाद बैंक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को दिये एक बयान में बताया कि लेनदेन कुछ चुनिंदा खाताधारकों को लाभ पहुंचाने के लिए उनकी सहमति से किया गया, ताकि इस आधार पर विदेश में उन ग्राहकों को दूसरे बैंकों से भी अच्छे पैसे मिलते रहें।

आपको बता दें कि पीएनबी देश में कर्ज देने वाली दूसरी सबसे बड़ी बैंक है और संपत्ति के मामले में चौथी सबसे बड़ी बैंक है। बैंक ने अभी तक इस धोखाधड़ी में शामिल लोगों के नाम का खुलासा नहीं किया है लेकिन कहा है कि इस सौदेबाजी की सूचना प्रवर्तन एजेंसियों को दी गई है। अब इसका मूल्यांकन किया जाएगा इस लेनदेन से जवाबदेही बनती है या नहीं। पीएनबी की ओर से कहा गया कि बैंक में ये लेन-देन आकस्मिक प्रवृति के हैं और इनपर देनदारी का फैसला कानून और अंतर्निहित लेनदेन के आधार पर किया जाएगा।

आपको बता दें कि पीएनबी पर पहले भी फर्जी लेनदेन के आरोप लगे हैं। केंद्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई ने बताया कि पिछले सप्ताह देश के सबसे धनी लोगों में शुमार अरबपति जौहरी निर्वाक मोदी के खिलाफ जांच शुरू की गई है। जौहरी और कुछ अन्य पर पीएनबी को 44 मिलियन डॉलर धोखा देने का आरोप लगा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper