पीएनबी ने फर्जीवाड़ा के तौर-तरीके को लेकर दूसरे बैंकों को ‎‎किया सावधान

नई ‎दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने 11,400 करोड़ रुपए की फर्जीवाड़ा की चपेट में आने के बाद दूसरे बैंकों को सावधान रहने के ‎लिए कहा है। पीएनबी ने विभिन्न बैंकों को भेजे पत्र में कहा ‎कि शुरुआती जांच से यह पता चला है कि मुंबई में हमारी शाखाओं के कर्मचारियों के साथ सांठगांठ करके साजिशकर्ताओं ने संदिग्ध फर्जीवाड़ा को अंजाम दिया।

पत्र के मुताबिक यह पाया गया कि संबंधित कंपनियां शाखा में सिर्फ चालू खाता चला रही थीं और किसी भी लेनदेन को केंद्रीकृत बैंकिंग व्यवस्था के जरिए नहीं किया गया। पीएनबी ने उक्त मामले में सीबीआई से दो शिकायतें कीं, जिसके बाद सीबीआई ने मामला दर्ज कर लिया है। ये शिकायतें अरबपति हीरा व्यवसायी नीरव मोदी और आभूषण बनाने वाली एक कंपनी के खिलाफ की गई थीं।

प्रवर्तन निदेशालय ने घोटाले के आरोपी अरबपति ज्वेलर मोदी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज कर लिया है। अधिकारियों ने बताया कि पीएनबी की शाखा में 280 करोड़ रुपए के कथित ठगी और धोखाधड़ी मामले में वह सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पीएनबी से कल उसे दो शिकायतें मिलीं जिनमें आरोप लगाया गया कि बैंक ने 11400 करोड़ रुपए से अधिक के फर्जी लेन-देन का पता चला जिसमें मोदी और आभूषण कंपनी शामिल हैं।

अधिकारियों ने राष्ट्रीय बैंक की तरफ से मिली शिकायत में आगे की कार्रवाई के बारे में विस्तार से नहीं बताया। उन्होंने कहा कि डिजाइनर और कंपनी के खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। यह स्पष्ट नहीं हुआ कि शिकायत में जिस आभूषण कंपनी का जिक्र है वह मोदी से जुड़ी हुई है या नहीं। अधिकारी ने कहा कि बैंक अब अपनी प्रणाली और प्रक्रियाओं की जांच कर रहे हैं ताकि इस तरह का घोटाले की पुनरावृत्ति न हो। सभी बैंकों से जल्द से जल्द स्थिति रिपोर्ट देने को कहा गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper