पीएम किसान सम्मान निधि की 8वीं किस्त के लिए फौरन चेक करें स्टेटस, अगर लिखा है ऐसा तो जरूर मिलेगा पैसा

पीएम किसान सम्मान निधि की आठवीं या अप्रैल-जुलाई वाली 2000 रुपये की किस्त एक अप्रैल से 31 जुलाई के बीच किसानों के खाते में पहुंचती है। इस किस्त का इंतजार 11 करोड़ 74 लाख किसान कर रहे हैं। अगर आप यह जानना चाहते हैं कि यह कहां रुकी हुई है तो अपना स्टेटस चेक करें। स्टेटस चेक करने का तरीका बेहद आसान है। आपके स्टेटस में अगली किस्त के बारे में Waiting for approval by state या  Rft Signed by State Government या फिर FTO is Generated and Payment confirmation is pending लिखा दिखेगा। इन चीजों के बारे में आगे हम बताएंगे कि इनका मतलब क्या होता है, इससे पहले आप स्टेटस चेक करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें..

  • पहले पीएम किसान (PM Kisan) की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।
  • यहां आपको राइट साइड पर ‘Farmers Corner’ का विकल्प मिलेगा
  • यहां ‘Beneficiary Status’ के ऑप्शन पर क्लिक करें। यहां नया पेज खुल जाएगा।
  • नए पेज पर आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनिए। इन तीन नंबरों के जरिए आप चेक कर सकते हैं कि आपके  अकाउंट में पैसे आए या नहीं।
  • आपने जिस विकल्प का चुनाव किया है, उसका नंबर भरिए। इसके बाद ‘Get Data’ पर क्लिक करें।
  •  यहां क्लिक करने के बाद आपको सभी ट्रांजेक्शन की जानकारी मिल जाएगी। यानी कौनसी किस्त कब आपके खाते में आई और किस बैंक अकाउंट में क्रेडिट हुई।
  • आठवीं किस्त से जुड़ी जानकारी भी आपको यहां मिल जाएगी।

यदि  Waiting for approval by state लिखा है तो ये है इसका मतलब

पीएम किसान सम्मान निधि पोर्टल पर अगर अपना स्टेटस चेक कर रहे हैं और आपकी अगली किस्त के लिए Waiting for approval by state लिखा दिख रहा तो समझ लीजिए अभी 2000 रुपये की रकम मिलने में थोड़ा विलंब है। राज्य सरकार ने अभी मंजूरी नहीं दी है। जैसे ही राज्य सरकार आपके द्वरा उपलब्ध कराए गए दास्तावेजों को वेरीफाई कर लेगी वैसे ही केंद्र को Rft Sign करके भेज देगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper