पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत किसानों के खाते में डाली 21 हजार करोड़ से अधिक की धनराशि

बरेली। कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों के साथ संवाद कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रधानमंत्री के द्वारा किसानों के खातों में डिजिटल माध्यम से किसान सम्मान निधि के 10 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों को 21 हजार करोड़ से अधिक की धनराशि का किसानों के खातों में सीधे हस्तांतरण किया।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में माननीय प्रधानमंत्री जी ने केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना, आयुष्मान भारत योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, उज्ज्वला योजना, एक राष्ट्र एक राशन कार्ड आदि योजनाओं के लाभार्थियों से उनके अनुभवों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बताया कि लगातार प्रयासों के बाद सरकारी योजनाओं का पूरा लाभ लाभार्थियों तक पहुँच रहा है। माननीय प्रधानमंत्री जी ने जानकारी दी कि पूरा विश्व आश्चर्य चकित है कि किस प्रकार भारतवासियों ने सीमित संसाधनों के होते हुए कोरोना काल के पश्चात कितनी तेजी से पुनः उठकर विश्व में विकास की उच्चतम गति को प्राप्त किया।

इससे पूर्व माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा” गरीब कल्याण सम्मेलन” के आयोजन के अवसर पर किए गये सम्बोधन का सीधा प्रसारण भी किया गया जिसमें माननीय मुख्यमंत्री जी ने लखनऊ में योजनाओं के प्रदेश स्तर के लाभार्थियों से संवाद किया। उन्होंने कहा कि सरकार का निरंतर यही प्रयास है कि कोई भी गरीब सरकार की इन योजनाओं का लाभ पाने से वंचित न रह जाये।

इस कार्यक्रम का आयोजन कृषि विभाग एवं कृषि विज्ञान केन्द्र, द्वारा संयुक्त रूप से कृषि विज्ञान केंद्र के सभागार में किया गया। कार्यक्रम में बरेली जनपद के विभिन्न विकास खंडों के कृषकों ने भी सीधा प्रसारण देखा। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक कृषि डॉ० राजेश कुमार, उपनिदेशक कृषि श्री धीरेन्द्र चौधरी, उपनिदेशक फसल सुरक्षा श्री विश्वनाथ कृषि विज्ञान केन्द्र के श्री राकेश पाण्डेय, श्री रंजीत सिंह, श्री एन०के० सिंह, श्री दुर्गा दत्त तथा अन्य सभी स्टाफ उपस्थित रहा।

बरेली से एसी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper