पीएम मोदी एक साल बाद समझ में आई किसानों की ताकत: प्रियंका गांधी

नयी दिल्ली, 19 नवम्बर। कांग्रेस की उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि किसानों पर अत्याचार और उनका दमन करने के एक साल बाद मोदी सरकार को किसानों की ताक़त का एहसास हाल के उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद हुआ है इसलिए इस दमनकारी सरकार की नियत पर अभी विश्वास नहीं किया जा सकता है।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखनऊ गए लेकिन वहां से कुछ ही दूरी पर जहां किसान के बेटे को केंद्रीय मंत्री के बेटे ने अपनी कार से रौंदा उस किसान के घाव पर मरहम लगाने के लिए उसके घर पर नहीं गये और ना ही अब तक किसान के पुत्र को कुचलने के आरोपी के पिता को मंत्रिमंडल सें हटाया गया है इसलिए उन पर अभी विश्वास करना बहुत मुश्किल है।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि छह सौ से अधिक किसानों की शहादत, 350 से अधिक दिन का संघर्ष। मोदी जी आपके मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचल कर मार डाला, आपको कोई परवाह नहीं थी। आपकी पार्टी के नेताओं ने किसानों का अपमान कर उन्हें आतंकवादी, देशद्रोही, गुंडे, उपद्रवी कहा, आपने खुद आंदोलनजीवी बोला, उनपर लाठियाँ बरसायीं, उन्हें गिरफ़्तार किया।

अब चुनाव में हार दिखने लगी तो आपको अचानक इस देश की सच्चाई समझ में आने लगी – कि यह देश किसानों ने बनाया है, यह देश किसानों का है, किसान ही इस देश का सच्चा रखवाला है और कोई सरकार किसानों के हित को कुचलकर इस देश को नहीं चला सकती। आपकी नियत और आपके बदलते हुए रुख़ पर विश्वास करना मुश्किल है। किसान की सदैव जय होगी। जय जवान, जय किसान, जय भारत।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper