पीएम मोदी के तीखे बाण से विपक्ष घायल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: राज्यों के बंटवारे का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि देश में राज्यों की रचना अटल जी ने भी की थी. उन्होंने तीन राज्यों का निर्माण किया था। उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और झारखंड…राज्यों का बंटवारा काफी स्मूदली किया गया। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि आपने देश के टुकड़े किये जिसका दंश आज भी देश झेल रहा है। मोदी ने कहा कि जो देश भारत के बाद आजाद हुए वे भी हमसे ज्यादा तेजी से विकसित हुए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मां भारती के टुकड़े कर दिये थे फिर भी लोगों ने उनका साथ दिया। कांग्रेस ने अगर सही नीयत और सही दिशा रखी होती तो देश आज जहां है वहां से बहुत आगे होता। आंध्र प्रदेश मुद्दे पर मोदी ने कहा कि तेलंगाना आगे बढ़े इसके पक्ष में हम भी थे पर आपने आंध्र के लोगों के साथ हड़बड़ी में जो किया उसका नतीजा है कि चार साल बाद भी समस्याएं हैं।

पीएम मोदी ने कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे पर हमला किया. उन्होंने मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा इस्तेमाल किये गये बशीर बद्र के शेर का जिक्र किया। उसके जवाब में मोदी ने कांग्रेस को कहा कि, जी चाहता है कि सच बोलें, क्या करें हौसला नहीं होता… विपक्ष की नारेबाजी के बीच लोकसभा में पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि भारत का लोकतंत्र नेहरू और कांग्रेस की देन नहीं है, देश का अस्तित्व उससे भी पहले से था। मोदी ने बौद्ध के वक्त की बात करते हुए कहा कि तब 12वीं शताब्दी में भी लोकतंत्र था। यहां मोदी ने लिक्षवी समाज का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ने आंध्र प्रदेश के एयरपोर्ट पर एक दलित मुख्यमंत्री को अपमानित किया था। उस अपमान की आग में से ही एनटी रामाराव निकले थे। मोदी ने कहा कि राज्यों में पनप रहे पार्टियों को आपने पनपने नहीं दिया। आप अपनी पार्टी के लोकतंत्र को लोकतंत्र मानते हो। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के मुंह पर लोकतंत्र शोभा नहीं देता और उन्हें भाजपा को लोकतंत्र का पाठ नहीं पढ़ाना चाहिए।

अपने भाषण में पीएम मोदी ने सरदार बल्लभ भाई पटेल का उल्लेख किया और कहा कि यदि वे देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो कश्‍मीर का यह हाल नहीं होता। पीएम ने कहा कि दशकों तक कांग्रेस ने अपनी सारी ऊर्जा एक परिवार की सेवा में लगा दी और देश के हित को एक परिवार के हित के लिए नजरअंदाज कर दिया गया। पीएम मोदी ने विभिन्न प्रॉजेक्ट्स का नाम लेकर कहा कि वे अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के वक्त तय किये गये थे, लेकिन कांग्रेस श्रेय लेती है. चुनाव से पहले पत्थर पर नाम जड़ जाएगा तो काम हो जाएगा। आपने बाड़मेर रिफाइनरी में भी यही किया पर हमने देखा काम बस कागज पर हुआ है। हमने आज उस का को प्रारंभ कर दिया है। मोदी ने कहा कि सबसे बड़ी सुरंग, सबसे तेज ट्रेन बनने और 104 सेटलाइट छोड़ने का काम इसी सरकार में हुआ।

बेरोजगारी पर पीएम ने कहा कि चार राज्य जहां भाजपा या एनडीए की सरकार नहीं है वहां पिछले तीन-चार साल में एक करोड़ लोगों को रोजगार मिला है। मोदी ने पूछा कि क्या कांग्रेस इन आंकड़ों को नहीं मानेगी ? मोदी ने कहा कि अब लोग स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो ऐसे में क्या स्वरोजगार को रोजगार नहीं माना जाएगा ? 80 के दशक में 21वीं सदी के सपने दिखाये जाते थे। मोदी ने कहा कि कांग्रेस अपने गीत गाती है और आंख बंद करके रहती है। यहां मोदी ने अटल बिहारी वाजयेपी का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता और टूटे मन से कोई खरा नहीं होता।

उन्होंने कहा कि बुजुर्गों और दिव्यांगों का पैसा बिचौलिया खा जाते थे. अब उनके खातों में सीधे पैसे जाते हैं. बेरोजगार बिचौलिये हुए हैं। मोदी ने कहा कि जब हमने आधार को वैज्ञानिक ढंग से लागू किया तो आपको वह बुरा लगने लगा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार टेक्नॉलजी का भरपूर इस्तेमाल करती है, जिससे होने वाले काम को मॉनिटर किया जाता है। इससे वह जल्दी होता है. आप 80 के दशक में 21वीं सदी की बातें करते थे लेकिन आज 2018 में जब हम 2022 की बातें करतें हैं तो आपको अच्छी नहीं लगती। आजादी के 75 साल बाद की बातें कांग्रेस को अच्छी नहीं लगती है। पीएम मोदी ने कहा कि आपने बैंबू को पेड़ की श्रेणी में रख दिया जिससे लोग उसे काट नहीं पाते थे, हमने उसे उस श्रेणी से हटाया, इससे किसानों की आमदनी बढ़ेगी। कांग्रेस से पीएम मोदी ने कहा कि आप शंका में इसलिए रहते हैं क्योंकि आपने कभी बड़ा सोचा नहीं और छोटे मन से कुछ होता नहीं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper