पीएम मोदी के साथ मुख्यमंत्रियों का मंथन, कैप्टन ने किया लॉकडाऊन बढ़ाने का समर्थन

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि देश में कोरोना वायरस के भौगोलिक प्रसार का पता चलने के बाद हमें इस महामारी के खिलाफ अब पूरे फोकस के साथ यानी एकाग्रचित होकर लड़ाई लडऩी होगी और इसके प्रसार पर अंकुश लगाना सुनिश्चित करना होगा। कोरोना महामारी के कारण देश भर में लागू पूर्णबंदी के तीसरे चरण के 17 मई को समाप्त होने से पहले मोदी ने आज यहां वीडियो कांफ्रेन्स के माध्यम से एक बैठक में सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ स्थिति की समीक्षा की और आगे की रणनीति पर विचार विमर्श किया। इस मंथन के दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लॉकडाऊन को बढ़ाने का समर्थन किया।

सीएम अमरिंदर ने लोगों की जिंदगी बचाने के लिए सावधानीपूर्वक तैयारी के साथ लॉकडाऊन की अवधि बढ़ाने का आग्रह किया। पंजाब के अलावा महाराष्ट्र, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों ने भी लॉकडाऊन बढ़ाने का समर्थन किया। तमिलनाडु के सीएम ने कहा कि इस महीने के अंत तक रेगुलर ट्रेन और हवाई सेवा शुरू ना की जाए। वहीं सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक गुजरात लॉकडाउन को अब और बढ़ाना नहीं चाहता है।  महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी लॉकडाउन बढ़ाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन बढ़ाए बिना आगे बढऩा मुमकिन नहीं है।

तेलंगाना के सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने की मांग करते हुए कहा कि पैसेंजर ट्रेन चलाने से कोरोना संक्रमण का खतरा है। वहीं, राजस्थान के मु्ख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि रेड जोन वालों को ग्रीन जोन में जाने की इजाजत ना दी जाए। सूत्रों के मुताबिक पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि टेस्टिंग के लिए रणनीति बनाई जाए। इसके साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार से लॉकडाउन के दौरान लोगों के जीवन यापन और जिंदगियों को सुरक्षित करने के लिए एक उचित एग्जिट स्ट्रेटजी बनाने की मांग भी की है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री को कहा कि प्रदेशों के अंदर ग्रीन,ऑरेंज और रेड जोन तय करने का अधिकार राज्य सरकारों को ही होना चाहिए। अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार से राज्यों के लिए 3 महीने तक रेवेन्यू ग्रांट देने की मांग भी की है। इसके अलावा राज्यों के लिए विशेष आर्थिक पैकेज और फिस्कल ऐड की भी मांग की है जिससे राज्य अपने दायित्वों की कम से कम 33 फीसदी की पूर्ति इस सहयोग से कर सकें।

सूत्रों के अनुसार मोदी ने कहा कि अब हमें देश में कोरोना के भौगोलिक प्रसार का पता चल गया है इसलिए अब इसके खिलाफ पूरे फोकस यानी एकाग्रचित होकर लड़ाई लडऩे की जरूरत है। मोदी के मुताबिक दुनिया ने कोविड-19 महामारी से निपटने के भारत के तौर-तरीकों का लोहा माना है। भारत सरकार इस संबंध में सभी राज्य सरकारों के प्रयासों की सराहना करती है। हमें आगे भी इसी जोश के साथ आगे बढ़ते रहना है। अब हमें साफ पता चल चुका है कि देश के किन-किन इलाकों में कोरोना का खतरा ज्यादा है और अभी कौन से इलाके बहुत ज्यादा प्रभावित हैं। पिछले कुछ हफ्तों में जिला स्तर के अधिकारियों को भी पता चल चुका है कि ऐसे वक्त में कौन-कौन से कदम उठाने चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper