पुलवामा में शहीद CRPF जवान रतन ठाकुर के नवजात बेटे की हालत नाजुक, पत्नी ने देश से की भावुक अपील

नई दिल्ली। 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए बिहार के शहीद जवान रतन ठाकुर की पत्नी राजनंदनी ने तीन दिन पहले एक बेटे को जन्म दिया है। समय से पहले पैदा होने की वजह से बच्चा अस्वस्थ है और उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

रांची रेफर किया गया शहीद का बेटा

  • शहीद रतन ठाकुर के बेटे की हालत नाजुक होने के चलते भागलपुर के एक निजी अस्पताल से रांची के रानी चिल्ड्रन अस्पताल रेफर कर दिया गया है। बच्चे को पैदा हुए तीन दिन बीत चुके हैं।
  • रानी हास्पिटल के सीनियर पेडियाट्रिशियन डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि बच्चे के सिर के अंदर ब्लीडिंग की समस्या है। 8वें महीने में पैदा हो जाने की वजह से उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।
  • डॉक्टर कुमार ने बताया कि आम बच्चों की तरह बच्चा पैदा होने के बाद यह बच्चा बिल्कुल नहीं रोया, जो चिंता का विषय हो गया था। अभी बच्चे का इलाज जारी है। उन्होंने कहा कि बच्चे को बचा पाने की संभावना 50 प्रतिशत है।

बच्चे के इलाज की पूरी फीस माफ करना चाहते हैं डॉक्टर

  • अस्पताल ने इस बीच शहीद के बेटे के इलाज की फीस पर 50 प्रतिशत की छूट देने का ऐलान किया है।
  • अस्पताल के एडमिनिस्ट्रेटर मुकुल घोष ने कहा कि- बोर्ड मीटिंग में तय होगा कि क्या बच्चे के इलाज के लिए सारी फीस माफ की जा सकती है? शहीद का परिवार किसी भी हाल में रतन ठाकुर के बेटे की जान बचाना चाहता है।

क्या बोले शहीद रतन ठाकुर के पिता और पत्नी

  1. शहीद जवान रतन ठाकुर के पिता रामनिरंजन ठाकुर और रतन की पत्नी डॉक्टरों के किसी भी तरह बच्चे की जान बचाने को कह रहे हैं।
  2. रामनिरंजन ने कहा, इसका जन्म अपने पिता की शहादत के बाद हुआ है, मैं चाहता हूं कि यह उसके नक्शेकदम पर चले। एक बेटे को खोने के बाद अपने इस पोते को खो देने का ख्याल बुरी तरह डरा देता है।
  3. शहीद रतन ठाकुर की पत्नी राजनंदनी ने कहा कहा- मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी है। मेरी पति के शहीद होने पर सारा देश मेरा साथ था। ऐसे में मैं लोगों से शहीद के बेटे की जिंदगी के लिए दुआ मांगने को कहूंगी।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper