पुलिस ने रामचंद्र गुहा और योगेंद्र यादव को लिया हिरासत में, CAA के खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन

बेंगलुरु: नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के विरोध में अब बुद्धिजीवी वर्ग भी सड़क पर उतर अपना विरोध दर्ज कराने लगा है। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध कर रहे इतिहासकार रामचंद्र गुहा को बेंगलुरु पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने स्वराज इंडिया पार्टी के चीफ योगेंद्र यादव को भी गिरफ्तार कर लिया है। ये सभी सीएए के खिलाफ टाउन हॉल में आयोजित धरना-प्रदर्शन कर रहे थे। इस कार्रवाई के विरोध में गुहा ने अपने टि्वटर हैंडल से बेंगलुरु पुलिस को आड़े हाथों लेते हुए बेंगलुरु का नाम बदनाम करने का आरोप लगाया है।

रामचंद्र गुहा ने हाल ही में एक कार्यक्रम में कहा था कि हिंदुत्व देश को नुकसान पहुंचा रहा है। वह यह कहने से भी नहीं चुके थे कि हिंदुत्व देश को बर्बाद करके रख देगा। इसके पहले भी गुहा मोदी सरकार की नीतियों की मुखर मुखाफलत करते हए हैं। उन्होंने असहिष्णुता के मसले पर देश के प्रबुद्ध लोगों के साथ राष्ट्रपति को खुला पत्र भी लिखा था. इसके बाद गो हत्या के बढ़ते मामलों पर विरोध जताने के लिए उन्होंने बीफ खाते अपनी फोटो भी सोशल मीडिया पर सार्वजनिक की थीं। गौरतलब है कि गुरुवार को वामपंथी संगठनों ने नागरिकता संशोधन कानून 2019 के विरोध में देशव्यापी धरना-प्रदर्शन का आह्वान किया है।

यहां यह भूलना नहीं चाहिए कि रामचंद्र गुहा ने ‘इंडिया ऑफ्टर गांधी’ और ‘इंडिया विफोर गांधी’ सरीखी किताबें लिखी हैं। एक समय कांग्रेस को देश की विद्यमान समस्याओं के लिए जिम्मेदार बताने वाले गुहा नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद उनके विरोधी हो गए। खासकर अखलाक कांड और गो हत्या के मसले पर भीड़ द्वारा बेगुनाहों को पीट-पीट कर मारे जाने के बाद तो उन्होंने मोदी सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ा। ऐसे में नागरिकता संशोधन अधिनियम को संविधान के खिलाफ मानते हुए गुहा गुरुवार को विरोध प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे थे।

हैदराबाद: जेल में महिला के पति से जाना घर का पता, जमानत मिलने के बाद कर दिया रेप और हत्या

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper