पूरी दुनिया में इंटरनेट पर यह तस्वीर बनी है एक पहेली, आखिर ये मर्डर है या आत्महत्या?

नई दिल्ली: बचपन में हम सब ने जासूसी से जुड़े कई धारावाहिक, कहानियां ओर फिल्में देखी है. जब हम इन्हें देखते है तो हमें दिखाए जाने वाले केस में काफी दिलचस्पी आने लगती है ओर हम अपने दिमांग के घोड़े दौड़ाते हुए असली मुजरिम के बारे में बताने लगते है.

कई बार एक कहानी सिर्फ मर्डर या आत्महत्या पर आ जाती है किसी को समझ नहीं आता यही की व्यक्ति का मर्डर हुआ है या फिर उसने आत्महत्या की है कई बार अपराधी अपराध कर खुद को बचाने के लिए उस केस को आत्महत्या का रूप देने की कोशिश करता है.

लेकिन कोई न कोई इस घटना की सच्चाई के बारे में पता लगा ही लेता है. आज हम भी एक बार फिर बचपन की उन यादो में जाते हुए आपके लिए एक ऐसी ही गुत्थी लेकर आये है. जहा आपको आपके जासूसी के घोड़े दौड़ाने की आवश्यकता है.

आपको फोटो में एक महिला दिख रही है जिसे देखने पर ऐसा लगता है की उसने आत्महत्या की है लेकिन इतनी जल्दी केस कैसे शोल हो सकता है आपके शातिर दिमांग में कुछ न कुछ तो खुरापात चल रही होगी ना फिर लगाओ अपना दिमांग.

इस तस्वीर में यदि ध्यान से देखे ते आपके लिए कई सबूत है जिसके आधार पर आप इस गुत्थी को सुलझा सकते है. तस्वीर में एक महिला की लाश कमरे में पड़ी हुई है. जिसे गोली लगी है.

आप तस्वीर में दीवार पर खून देख सकते है. कमरा भी व्यवस्थित है. अब गौर करने की बात है की कैसे पता लगाए की यह मर्डर है या आत्महत्या?

पहला सबूत

तस्वीर देख हम पता लगा सकते है की मरने वाली महिला किसी भी काम के लिए अपने बाएं का इस्तेमाल करती थी. जो की किसी भी व्यक्ति के लिए एक सामान्य प्रवृत्ति है.

इसका पता हम महिला के बाएं हाथ में आधी जली सिगरेट से पता लगा सकते है. क्यों की जो व्यक्ति जिस हाथ से अपना सभी काम करता है वह उसी हाथ से सिगरेट भी पिता है. इस बात से स्पष्ट होता है की महिला ने खुद को गोली नहीं मारी है.

दूसरा सबूत

जब कोई भी आत्महत्या करता है तो वह पहले अपने सभी काम को खत्म करता है. तस्वीर में आप देख सकते है की महिला के हाथ में जो सिगरेट है वह आधी है. यदि वह आत्महत्या करती तो पहले पूरी सिगरेट पीती फिर खुद को गोली मारती.

तीसरा सबूत

जिस जगह खून के निशान दिखणी दे रहे है वहा से बंदूक विपरीत दिशा में है. जिसका मतलब यह आत्महत्या नहीं है.

चौथा सबूत

जब कोई व्यक्ति बंदूक से आत्महत्या करता हैं तो उसका शरीर तनावरहित होता है. जिसके अनुसार आत्महत्या करने वाले व्यक्ति के हाथ में बन्दुक नहीं हो सकती है. लेकिन तस्वीर में ऐसा नहीं है.

पांचवा साबुत

कमरे में अंधेरा है क्यों की जहा पर सुसाइट नॉट रखा हुआ है वह की लाइट बंद है और खिड़की से बहार देखने पर भी अँधेरा दिखाई दे रहा है. आप ही सोचिये अँधेरे में कोई सुसाइट नॉट कैसे लिख सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper