पूर्वोत्तर रेलवे ने वर्तमान वित्त वर्ष में जुलाई तक 7.86 लाख बिना टिकट यात्रियों से वसूला 54.74 करोड़ का रेल राजस्व

गोरखपुर: पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री सुख-सुविधा के अनेक कार्य निरन्तर किये जा रहे है, जिसमें यात्रियों की भीड़ को देखते हुए यात्री सुविधाओं में सुधार एवं विस्तार किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त स्वच्छता बना कर रेलवे स्टेशन एवं गाड़ियों में अपराध की रोकथाम कर तथा बिना टिकट यात्रियों के विरूद्व अभियान चला कर यात्रियों की सुविधा बढ़ायी जा रही है।

पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा यात्रियों को उच्च गुणवत्ता की सेवा प्रदान करने के फलस्वरूप यात्री यातायात एवं आय में वृद्धि हुई है। वर्तमान वित्त वर्ष में माह जुलाई, 2022 तक 3.97 करोड़ आरम्भिक यात्रियों ने यात्रा की जो गत वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 252 प्रतिशत अधिक है। पूर्वोत्तर रेलवे द्वारा रेल राजस्व की लीकेज को रोकने हेतु गहन मॉनिटरिंग की जा रही है। इस उद्देशय हेतु प्रत्येक रेल मंडल में दो इन्टेसिंव चेक पोस्ट का गठन किया गया है तथा प्रत्येक माह स्पॉट चेक, एम्बुश चेक, किलाबंदी चेक आदि टिकट जांच आयोजित किये जाते है। इस जांच में गाड़ियों के आरक्षित एवं अनारक्षित कोचों की गहनता से जांच की जाती है। इसके अतिरिक्त समय-समय पर टिकट जांच हेतु बस रेड का भी आयोजन किया जाता है।

पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा गहन टिकट जांच के फलस्वरूप माह अप्रैल, 2022 से जुलाई, 2022 तक इसी अवधि में पिछले वर्ष पकड़े गये 1.66 लाख की तुलना में कुल 7.86 लाख बिना टिकट/अनियमित टिकट अथवा बिना बुक सामान के मामले पकड़े गये, जिनसे पिछले वर्ष की इसी अवधि में वसूले गये रेल राजस्व 11.63 करोड़ की तुलना में 54.74 करोड़ के रेल राजस्व की वसूली की गयी। रेलवे सभी यात्रियों से अपील करता है कि वैद्य टिकट पर ही यात्रा करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper