पेंशन के पैसों से समाजसेवा

लखनऊ : कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने के लिए मास्क सबसे बड़ा सहारा हैं। इस बात को लखनऊ के राजेंद्र नगर कॉलोनी में रहने वाली 85 साल की कुमुद बाजपेई भी अच्छी तरह समझती हैं और इसीलिए वह अपने पेंशन के पैसों से लोगों के लिए फेस मास्क सिल रही हैं। साथ ही हर दिन 50-70 खाने के पैकेट भी बांटती हैं। इस काम में उनके परिवार के अन्य लोग भी मदद करते हैं।

जब से लॉकडाउन लागू है तभी से वह मास्क बनाने के काम में जुटी हैं। कुमुद बाजपेई ने कहा कि मैं पिछले तीन हफ्तों से ट्रिपल लेयर फेस मास्क बना रही हूं और स्थानीय जरूरतमंद लोगों के बीच बांट भी रही हूं। उन्होंने कहा कि मास्क के साथ हम लोग हर रोज हमलोग 50-70 फूड्स पैकेट भी तैयार कर रहे हैं।

मेरे परिवार के लोग खुद ही बाहर जाकर स्थानीय जरूरतमंद लोगों के बीच इसे बांटने का काम करते हैं। कुमुद बाजपेई के पति एलआईसी में थे। उनकी मौत के बाद से उन्हें हर महीने 10,000 रुपये पेंशन मिलती है। उसी पैसे से वह लोगों की मदद करती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper