पेट से जुड़े इन भाइयों की जिंदगी है मिसाल, बोले- ‘जब तक जीएंगे, साथ रहेंगे’

रायपुर: छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर के रहने वाले शिवनाथ और शिवराम साहू जुड़वा भाई हैं जो आपस में पेट से जुड़े हुए हैं. ये देखकर आपको शायद न समझ आए, कि इन दोनों की जिंदगी कितनी कठिन है. लेकिन सोशल मीडिया के एक पेज में बॉर्न डिफरेंट ने इनका एक वीडियो शेयर किया है जिसमें इनकी कहानी को दिखाया गया है. शारीरिक रूप से अपनी जिंदगी में कई मुसीबतें झेल रहे इन भाइयों का कहना है कि वो ऑपरेशन नहीं करवाएंगे, जब तक जिएंगे ऐसे ही रहेंगे.

12 साल के शिवनाथ और शिवराम साहू का शरीर कमर से जुड़ा हुआ है. इनके फेफड़े, हार्ट और ब्रेन अलग-अलग हैं. दोनों के दो पैर और चार हाथ हैं. छत्तीसगढ़ के रायुपर में जब साहू भाइयों का जन्म हुआ था, तो लोग इन्हें दैवीय अवतार मान कर पूजा करने लगे, लेकिन बाद में इनकी बीमारी का पता लगने पर लोगों ने ऐसा करना बंद कर दिया. शिवनाथ और शिवराम के पिता और मां को अपने बेटों पर गर्व है. शिवनाथ और शिवराम के पिता राजकुमार मजदूरी करके अपना परिवार चलता है और घर में उनके पांच बेटियां और दो बेटे भी हैं.

बता दें कि मेडिकल साइंस का मानना है कि 2 लाख बच्चों में से शरीर से जुड़े जुडवां का एक मामला सामने आता है. कुछ डॉक्टरों का मानना है कि उन्हें अलग किया जा सकता है, लेकिन ये दोनों भाइयों ने एक-दूसरे से अलग होने के लिए मना कर दिया है. शिवराम का कहना है कि हमारी इच्छा अलग होने की नहीं है. हम जैसे हैं, ठीक उसी तरह जीना चाहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper