पैसा दोगुना करने के बहाने लोगों को ठगने के आरोप में एमबीए ग्रेजुएट गिरफ्तार

नई दिल्ली। एक एमबीए ग्रेजुएट को कुछ ही समय में पैसा दोगुना करने के बहाने लोगों को ठगने के आरोप में राष्ट्रीय राजधानी में गिरफ्तार किया गया है। एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। रजत अग्रवाल (25) के रूप में पहचाने जाने वाले आरोपी ने 2021 में चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय, सिरसा से एमबीए (फायनेंस एंड मार्किटिंग) पूरा किया है और एक नवोदित गायक भी है।

डीसीपी समीर शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि एक महिला शिकायतकर्ता की शिकायत पर दिल्ली के साइबर पुलिस स्टेशन बाहरी जिले में आईपीसी की धारा 420 के तहत मामला दर्ज किया गया है। महिला ने आरोप लगाया कि एक इंस्टाग्राम आईडी ‘दिव्या गर्ग 2’ ने उसके पैसे को दोगुना करने के संबंध में उससे संपर्क किया और बाद में उसे भुगतान यूपीआई मोड के माध्यम से तीन लेन-देन में 1,00,000 रुपये, 40,000 रुपये और 30,000 रुपये समेत पूरे 1,70,000 रुपये के लिए प्रेरित किया और धोखा दिया।

1,70,000 रुपये की धोखाधड़ी करने के बाद भी, धोखेबाज ने करों के रूप में 1,12,000 रुपये और मांगे, लेकिन शिकायतकर्ता ने धोखाधड़ी को समझा और साइबर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मामला दर्ज करने के बाद आईपी पते, संदिग्ध मोबाइल फोन नंबरों के सीडीआर, आईएमईआई का विश्लेषण किया और पाया कि सभी संदिग्ध आईपी पते एक व्यक्ति- आरोपी रजत अग्रवाल से जुड़े थे।

इसके बाद पुलिस ने छापेमारी कर आरोपी को हरियाणा के सिरसा से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी रजत अग्रवाल अपने ग्राहकों से पैसा दोगुना करने के लिए पूछता था, उन्हें ब्लूस्टोन डॉट कॉम जैसे प्रमुख पोर्टलों के गिफ्ट कार्ड और ई-वाउचर खरीदने और उन वाउचर को सीधे अपनी फर्जी ईमेल आईडी पर भेजने के लिए कहता था। अधिकारी ने कहा कि उसके कहने पर 15 लाख रुपये के ई-गिफ्ट कार्ड/ई-वाउचर, 02 मोबाइल फोन, 02 गूगल अकाउंट और साइबर धोखाधड़ी में इस्तेमाल किए गए 01 इंस्टाग्राम अकाउंट बरामद किए गए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper