प्याज की बढ़ती कीमतों के बीच केंद्र सरकार ने निर्यात पर लगाया तत्काल प्रभाव से बैन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने प्याज की सभी किस्मों के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। इसकी वजह घरेलू बाजार में प्याज की उपलब्धता बढ़ाना और कीमतों पर कंट्रोल रखना है। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने इस संबंध में सोमवार को नोटिफिकेशन जारी किया।

नोटिफिकेशन के मुताबिक, ‘प्याज की सभी किस्मों के निर्यात को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित किया जाता है।’ डीजीएफटी, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत कार्य करता है। यह आयात और निर्यात से जुड़े मु्द्दों को देखने वाली इकाई है। कोरोना काल व्यवस्था के तहत आने वाले प्रबंधों के प्रावधान इस नोटिफिकेशन के दायरे में नहीं आएंगे। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्याज के दाम 40 रुपये प्रति किलोग्राम के दायरे में हैं।

कर्नाटक-महाराष्ट्र में बारिश ने बढ़ाई कीमतें
प्याज का कारोबार करने वाले कारोबारियों के अनुसार, देश में सबसे पहले प्याज की नई फसल कर्नाटक में तैयार होती है। लेकिन वहां कई हिस्सों में भारी बारिश से काफी फसल बर्बाद हो गई है। इससे प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है। बारिश के कारण महाराष्ट्र के नासिक और मध्य प्रदेश के शाजापुर जिलों में प्याज की आवक कम हुई है। प्याज का भंडारण तो किया गया है लेकिन बारिश में खराब होने के डर से पिछले हफ्ते मंडी में ज्यादा मात्रा में प्याज की खेप नहीं पहुंची।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper