प्रकाश राज का मोदी पर तंज -कहा, 2014 में बेचा वादों का टूथपेस्ट, अब कर्नाटक में भी खोल दी दुकान

बेंगलुरु: कर्नाटक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के बाद अभिनेता प्रकाश राज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। प्रकाश ने ट्विटर पर लिखा, 2014 में बेचा गया वादों का टूथपेस्ट, परेशान किसानों व बेरोजगार युवाओं के चेहरों पर मुस्कान नहीं आई। क्या आप कर्नाटक रैली में बेचे गए वादों के टूथपेस्ट पर विश्वास करेंगे। क्या इससे मुस्कान लौटेगी? प्रकाश राज भाजपा के नेताओं और नरेंद्र मोदी की पहले भी आलोचना करते रहे हैं। उन्होंने कहा था कि वह एंटी हिन्दू नहीं, बल्कि एंटी मोदी हैं।

प्रकाश राज ने कहा था कि वह मानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हिन्दू नहीं हैं। जब मोदी का कोई मंत्री कहता है कि एक धर्म का पूरी तरह से सफाया कर दें और प्रधानमंत्री और पार्टी के अध्यक्ष चुप रहते हैं तो उनके हिंदू होने पर सवाल भी उठाया जाएगा। उन्होंने कहा था कि जो हत्याओं का समर्थन करे, वह हिंदू नहीं हो सकता। मैंने गौरी लंकेश की मौत पर लोगों को जश्न मनाते देखा। इनमें से कई लोगों को मेरे देश के प्रधानमंत्री ट्वीटर पर फॉलो करते हैं।

उन्होंने क्यों उन लोगों से रुकने के लिए नहीं कहा, उन्हें क्यों नहीं टोका? एक सच्चा हिंदू किसी की मौत पर जश्न नहीं मना सकता। बहरहाल, प्रधानमंत्री ने रविवार को भाजपा की कर्नाटक के सभी जिलों में आयोजित 90 दिनों की रैलियों के समापन पर एक जनसभा को संबोधित किया था। इसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा किसानों की जिंदगी में सुधार लाने और बेहतर बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराने के साथ कर्नाटक को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी। इस पर प्रकाश राज ने कहा है कि मोदी ने 2014 में वादों का टूथपेस्ट बेचा, अब कर्नाटक में भी दुकान खोल दी गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper