प्रगति की राह पर है उत्तर प्रदेश, बनता जा रहा है उत्तम प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से प्रदेश अब प्रगति की राह पर है और उत्तम प्रदेश बनता जा रहा है। अब यह सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व में उत्तर प्रदेश शीघ्र ही देश का अग्रणी और विकसित राज्य होगा। अब यह बीमारू राज्य नहीं रहेगा। प्रदेशवासियों का आह्वान करते हुए कहा कि प्रदेश को विकसित और अग्रणी राज्य बनाने के लिए हम सबको मिल-जुलकर काम करना होगा।

नाईक यह विचार कल देर रात यहां अवध शिल्प ग्राम में आयोजित उत्तर प्रदेश दिवस के समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश राज्य के गठन के 68 वर्ष बाद यहां पर पहला उत्तर प्रदेश दिवस मनाया जा रहा है, जो हर्ष का विषय है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश दिवस मनाने का सुझाव उन्होंने सरकार को दिया था, जिसे मानते हुए इसका आयोजन किया गया है। तीन दिन के इस आयोजन के दौरान प्रदेश के विभिन्न रंग देखने को मिले, जिससे पता चलता है कि इस प्रदेश की संस्कृति कितनी समृद्ध है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि आज उत्तर प्रदेश की शान बढ़ाने वाली विभूतियों को सम्मानित किया गया है।

समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 24 जनवरी, 1950 को उत्तर प्रदेश का गठन हुआ लेकिन इसका स्थापना दिवस आज तक कभी नहीं मनाया गया। वर्तमान सरकार द्वारा यह पहला स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश दिवस के माध्यम से युवाओं को अपने विचार रखने का मंच मिला है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश की परम्परा, विरासत, कला, उद्यम के अलावा किसानों, युवाओं और शिल्पियों को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए अब एक ऐसा प्लेटफाॅर्म मुहैया करा दिया है, जिसके माध्यम से वे आने वाले वर्षों में इसका उपयोग प्रतिभा प्रदर्शन के लिए कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश दिवस में प्रतिभाग करने के उत्साह के चलते तीनों दिन बड़ी संख्या में लोग सम्मिलित हुए। लोगों में सबसे ज्यादा उत्साह एक जनपद एक उत्पाद के प्रति है और वे इन स्टालों पर उत्साह के साथ अपनी मौजूदगी दर्ज कर रहे हैं।

राज्य सरकार इस योजना के लिए बजट में प्रावधान करने जा रही है, ताकि इसे और विस्तृत किया जा सके। उन्होंने कहा कि अवध शिल्प ग्राम के साथ-साथ नोएडा में भी प्रदेश के सभी मण्डलों को अपने उत्पाद प्रदर्शित करने के लिए स्थान दिया जाएगा, ताकि इस योजना को प्रोत्साहन मिले। उन्होंने कहा कि इससे सभी जिलों के उत्पादों को जोड़ा जाएगा। राज्य सरकार अगले तीन वर्षों में इस योजना के माध्यम से 20 लाख रोजगार मुहैया कराएगी।

योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश असीमित सम्भावनाओं वाला प्रदेश है। इसके पास देश को नेतृत्व देने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि स्टार्ट-अप योजना के माध्यम से युवाओं के इनोवेटिव आइडिया को बढ़ावा दिया जाएगा। उन्होंने प्रदेश के विकास में अपना योगदान देने के लिए युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि राज्य सरकार अगला वित्तीय वर्ष युवाओं को समर्पित करने जा रही है। अगले वर्ष युवाओं को पांच लाख सरकारी नौकरियां उपलब्ध कराई जाएंगी, जिससे उन्हें रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि यह वर्ष किसानों को समर्पित था, जिसके तहत उन्हें एक लाख करोड़ की मदद दी गई, जिसमें से 80 हजार करोड़ रुपए डी0बी0टी0 के माध्यम से सीधे उनके खातों में पहुंचाए गए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में लगातार प्रयास कर रही है। छह लाख युवाओं को कौशल विकास मिशन के तहत पंजीकृत करते हुए उनका कौशल विकास किया गया। इनमें से एक लाख 20 हजार युवाओं को रोजगार मुहैया कराया गया है। राज्य सरकार प्रदेश को औद्योगिक हब के रूप में विकसित करना चाहती है, ताकि युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर मिलें। उत्तर प्रदेश युवाओं का प्रदेश है। सबसे ज्यादा युवा इस प्रदेश में हैं। उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि वे शासन की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने का काम करें।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर साहित्य, कला, विज्ञान इत्यादि क्षेत्रों की महान विभूतियों को सम्मानित किया जा रहा है। सम्मान पात्र व्यक्तियों को ही दिया जाना चाहिए। जिन विभूतियों को सम्मानित किया जा रहा है, वे अपने-अपने क्षेत्रों में शीर्ष पर रहे हैं और युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि युवा उनसे प्रेरणा लेकर स्वयं भी शीर्ष पर पहुंचने के लिए काम करेंगे। समारोह को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डाॅ. दिनेश शर्मा तथा पर्यटन मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी तथा सूचना राज्यमंत्री डाॅ. नीलकंठ तिवारी ने भी सम्बोधित किया।

इस अवसर पर उन्होंने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग की वेबसाइट एवं सोशल मीडिया मैगजीन ई-सन्देश को भी लाॅन्च किया। समारोह के दौरान युवा संगम कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाली प्रदेश की 11 बेस्ट टीमों ने कृषि, डिजिटल प्रदेश, स्वच्छता और पारदर्शिता, उत्तम शिक्षा, स्वस्थ घर परिवार, सुरक्षित प्रदेश, अन्त्योदय से सर्वोदय, जनभागीदारी, कौशल विकास, अपना घर जैसे विभिन्न विषयों पर प्रस्तुतिकरण दिया और अपने विचार व्यक्त किए।

इस मौके पर राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश की महान विभूतियों को पुरस्कृत भी किया। इनमें पं. छन्नू लाल मिश्रा (उप शास्त्रीय गायन), उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान (शास्त्रीय संगीत), राजन-साजन मिश्र (उप शास्त्रीय गायन), पं. हरि प्रसाद चैरसिया (बांसुरी वादन), सुश्री एन. राजम (वायलिन), पं. बिरजू महाराज (कथक), सुश्री पीवी सिन्धु (बैडमिण्टन), सुश्री दीपा करमाकर (जिम्नास्टिक), सुश्री साक्षी मलिक (कुश्ती), मुख्तार सिंह (कुश्ती), विजय सिंह चौहान (एथलेटिक्स), चेतन चौहान (क्रिकेट), प्रवीण कुमार ओबराय (रोईंग), जफर इकबाल (हाॅकी), धर्मेन्द्र सिंह यादव (बाॅक्सिंग), अकरम शाह (जूडो), संजीव कुमार (कबड्डी), अभिन्न श्याम गुप्ता (बैडमिन्टन), जीतू राई (शूटिंग), सुश्री प्रशान्ति सिंह (बास्केटबाॅल), डाॅ. गजेन्द्र पाल सिंह राघव (बाॅयो इन्फार्मेटिक्स), डाॅ. रूप मलिक को भी सम्मानित किया गया।

इसके अलावा, डाॅ. राजीव कुमार वाष्णेय (जेनोमिक्स), डाॅ. विनोद के. सिंह (साइंस एजुकेशन), डाॅ. संदीप शर्मा (रसायन शास्त्र), डाॅ. अनिल भारद्वाज (फिजिकल रिसर्च), डाॅ. सच्चिदानन्द त्रिपाठी (सिविल इंजीनियरिंग), डाॅ. मणीन्द्र अग्रवाल (कम्प्यूटर साइंस), डाॅ. जावेद अग्रवाल (माइक्रोबियल टेक्नोलाॅजी), डाॅ. पुष्कर शर्मा (इम्यूनोलाॅजी), डाॅ. संदीप त्रिवेदी (थियोरिटिकल फिजिसिस्ट), हाफिज खान (मार्बल इनले), इकबाल अहमद (इनले वर्क), महेश कुमार सुमन (ब्लाॅक मेकिंग), खलील अहमद (पंचादरी), मो. शरीफ (वुड एण्ड बोन कार्विंग), राम लाल मौर्या (रक्ताम्बरी जामदानी साड़ी), श्री मुश्ताक सरदार (काॅटन साड़ी), हाजी मुहम्मद ईशाक अंसारी (सिल्क जामदानी साड़ी), हाजी रईस अंसारी (वाॅल हैंगिंग), सुश्री अरूणिमा सिन्हा (पर्वतारोही@वाॅलीबाॅल, फुटबाॅल), डाॅ. आरबी सिंह (प्लाण्ट जैनेटिक्स एण्ड प्लाण्ट बाॅयो टेक्नोलाॅजी), ले. कर्नल जसराम सिंह (16 राजपूत रेजीमेंट), लेफ्टिनेन्ट (अब कमाण्डर) अरविन्द सिंह (भारतीय नौ सेना), श्याम कुमार (पत्रकार), अमरजीत मिश्रा (मुम्बई), रवि कपूर (छायाचित्र कलाकार) आदि भी सम्मानित किए गए।

राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने रियो ओलम्पिक गेम्स के पदक विजेताओं को पुरस्कार राशि वितरण एवं सम्मान प्रदान किया। इसके अलावा, राज्य निर्यात, उद्यमी, हस्तशिल्प पुरस्कारों का वितरण करने के साथ-साथ राज्य स्तरीय हथकरघा पुरस्कारों का भी वितरण किया गया। साथ ही, युवा संगम कार्यक्रम के उत्कृष्ट प्रतिभागियों को पुरस्कार एवं प्रमाण-पत्र वितरण के अलावा मछुआ आवास निर्माण के लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र भी वितरित किए गए। इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री चेतन चौहान, पशुधन मंत्री एस0पी0 सिंह बघेल, मंत्रिमण्डल के कई अन्य सदस्य, जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव राजीव कुमार, सूचना विभाग के प्रमुख सचिव अवनीश कुमार अवस्थी, सूचना निदेशक अनुज कुमार झा सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण तथा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper