प्रदेश में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त: कांग्रेस

लखनऊ ब्यूरो। कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। पुलिस जनता को और जनता पुलिस को मार रही है। पूरे प्रदेश की खराब तस्वीर को भाजपा सरकार प्रस्तुत कर रही है। प्रदेश में खराब कानून व्यवस्था पर बोलते हुए कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कही।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की हालात का अंदाजा आप सिर्फ समाचार पत्रों की सुर्खियों को पढ़ें तो मालूम चल जायेगा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से भीड़ तंत्र के हवाले कर दिया गया है। आगरा में 10 वीं की छात्रा के ऊपर मनचलों के द्वारा पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर देने की घटना की आलोचना करते हुए कहा कि महिलाओं के ऊपर होने वाले अपराधों में 24 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है।

औसत रूप से प्रत्येक दिन बलात्कार के 8, महिलाओं को भगा ले जाने के 30 और महिला हिंसा से जुड़े अन्य 100 मामलें दर्ज किये गये हैं। भाजपा की सरकार पूरी तरह से महिलाओं की सुरक्षा करने में नाकाम हो चुकी है।

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कहा कि केन्द्र सरकार अपनी घोषणाओं को पूरा करने में नाकाम होने के कारण प्रदेश को हिंसा की आग में झोंकना चाहती है।

बुलंदशहर में स्याना तहसील की घटना इस बात का सबूत है कि किस तरह से भीड़ तंत्र सरकार पर हावी होकर हिंसा फैलाना चाह रही थी और असफल होने पर वहां के इंस्पेक्टर की निर्मम तरीके से हत्या कर दी गयी। प्रदेश् में 2017 में 195 मामले साम्प्रदायिक हिंसा के दर्ज हुए जो 2016 में 162 मामले थे। सरकार अमन चैन पसंद प्रदेश की जनता को नफरत की आग में ढकेलने का काम कर रही है।

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कहा कि प्रदेश में अवैद्य मादक पदार्थो की तस्करी धडल्ले से हो रही है। पूर्वांचल के कुशीनगर में भाजपा का एक कार्यकर्ता स्मैक जैसे खतरनाक मादक द्रव्य के साथ पकड़ा गया। उन्होंने विधान सभा सदन में चर्चा कर सरकार का ध्यान आकर्षित करते हुए मांग किया कि प्रदेश में कानून की व्यवस्था को बहाल किया जाना सबसे बड़ी जरूरत है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper