प्रवासियों के लिए बस बनी सहारा, योगी सरकार ने शुरू किया रोडवेज की कुछ बसों का संचालन

लॉक डाउन में फंसे लोगों को घर पहुंचाने के लिए योगी सरकार ने रोडवेज की कुछ बसो का संचालन शुरू कराया है जिससे फंसे यात्री अपने घर तक सुरक्षित पहुँच सके । इसी क्रम में बरेली के सैटेलाइट बस स्टैंड से रोडवेज बस द्वारा  यात्रियों को उनके घर तक पहुँचाया जा रहा है। ऐसे में मेरठ डिपो की बस से बरेली से 40 यात्रियों को शाहजहांपुर तक के लिये रवाना किया गया ।

बता दें कि कोरोना वायरस को हराने के लिए प्रधानमंत्री ने देश में 21 दिन का लॉक डाउन लागू किया है। बस मिलने पर बैठे यात्री फुरकान ने सरकार का और प्रशासन का शुक्रिया अदा किया है कि इस संकट की घड़ी में उसे खाने की दिक्कत नही हुई और अपने घर तक पहुँच रहा है ।लॉक डाउन के दौरान खाने की समस्या होने पर तमाम गरीब लोग सैकड़ों किलोमीटर का सफर कर अपने अपने घरों को निकल पड़ें हैं। ये लोग दिल्ली, उत्तराखंड, हरियाणा जैसे राज्यों में नौकरी करते थे, लेकिन लॉक डाउन की वजह से कारखाने बन्द हो गए जिसके बाद ये पैदल ही अपने अपने घर जाने की कोशिश कर रहे हैं।

बता दे की तमाम ऐसे लोगों को सड़कों पर सफर करने की ख़बर जब सरकार को लगी तो यूपी सरकार ने इन गरीब लोगों को उनके घर तक पहुँचाने का इंतजाम किया है। बरेली के सेटेलाइट बस अड्डे से तमाम गरीब मजदूरों को भेजने के लिए बसें लगाई गईं और लोगों को बस में बैठा कर उनके घरों के लिए रवाना किया गया। जिला प्रशासन ने उनके के लिए भोजन का भी इंतजाम किया। साथ ही बसों से भेजे जाने वाले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग भी की जा रही है ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper