प्राचीन काल में भोजन के आलावा इस काम के लिए भी प्रयोग किया जाता था प्याज

नई दिल्ली: प्याज जो कि हमारे रोजमर्रा के भोजन का हिस्सा है, सदियों भोजन का स्वाद बढ़ने के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। 5,000 वर्ष ईसा पूर्व कांस्य युग से संबंधित स्थानों की खुदाई में प्याज के अवशेष मिले हैं। यह सिर्फ स्वाद ही नहीं बढ़ाता, बल्कि पौष्टिकता से भरपूर भी होता है। लेकिन आपने शायद प्याज के ऐसे अनूठे इस्तेमाल के बारे में नहीं सुना होगा। सदियों पहले प्राचीन सभ्यताओं के लोग और मध्ययुगीन यूरोप के निवासी प्याज को खाने के आलावा और भी कई तरह से यूज करते थे, जिन्हें शायद आप नहीं जानते होंगे।

मिस्र के लोग ईसा से 3000 साल पहले प्याज की खेती करते थे। प्याज उनके रोजाना के भोजन का हिस्सा था, लेकिन इसके साथ-साथ वे प्याज की पूजा भी करते थे। प्याज की गोल आकृति और इसे काटने पर दिखने वाले रिंग के चलते इसे एटरनल लाइफ का प्रतीक माना जाता था।

यही नहीं, मिस्र के राजा रामसेस चतुर्थ की ममी के आई सॉकेट्स में प्याज के हिस्से मिले हैं। इससे साबित होता है कि प्राचीन मिस्र के लोग अंतिम संस्कार की प्रक्रिया में भी इसका इस्तेमाल करते थे। रोमन ग्लेडिएटर्स अपनी स्किन पर प्याज मला करते थे, ताकि उनके मसल्स ज्यादा मजबूत बन सकें। प्राचीन यूनान में माना जाता था कि प्याज ब्लड के ‘बैलेंस’ को ठीक करता है। इसलिए एथलीट्स ढेर सारा प्याज खाते थे।

16वीं सदी में यूरोप में प्याज को बांझपन का इलाज करने के लिए प्रमुख औषधि के तौर पर प्रयोग किया जाता था और ऐसी महिलाओं को नियमित तौर पर प्याज खाने की सलाह दी जाती थी। उस दौर में पशुओं को भी प्याज खिलाया जाता था, ताकि उनकी प्रजनन क्षमता बढ़ जाये और वे ज्यादा बच्चे पैदा कर सकें।

मध्य युग में प्याज बहुत मत्त्वपूर्ण था और इसको विनिमय मुद्रा की तरह भी प्रयोग किया जाता था। किराया चुकाने में प्याज का इस्तेमाल होता था और लोग एक-दूसरे को प्याज गिफ्ट भी करते थे। चूंकि प्याज के सेल्स बड़े होते हैं, इसलिए स्टडी में सेल्स की संरचना समझने के लिए उसके छिलकों का इस्तेमाल आज भी किया जाता है। माइक्रोस्कोप के नीचे प्याज के छिलके रखे जाने पर सेल्स की बनावट साफ नजर आती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper