प्रिया प्रकाश पर खुदा की तौहीन का आरोप, कहा- इस्लाम में हराम है आंख मटकाना

हैदराबाद: साउथ की एक्ट्रेस प्रिया प्रकाश वारियर के खिलाफ हैदराबाद के दो लोगों ने ‘खुदा की तौहीन’ का आरोप लगाया है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि ‘आंखें मटकाना’ और ‘आंख मारना’ इस्लाम के खिलाफ है। बार एंड बेंच के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट में दायर इस याचिका में कहा गया है कि इस गाने में ‘आपत्तिजनक दृश्य’ हैं। उनका कहना है कि इस गाने के बोल को जिन दृश्यों के साथ फिल्माया गया, वह ‘ईशनिंदा’ जैसा है।

वहीं इस फिल्म के निर्देशक ओमर लूलू का कहना है कि यह गाना उत्तरी केरल के मालाबार में हर शादी या समारोह में गाया जाता है। वह कहते हैं, ‘मालाबार के मुस्लिम 1978 से ही यह गाना गा रहे हैं। यह तब आपत्तिजनक नहीं था, तो फिर अब कैसे हो गया।’ दरअसल, केरल की रहने वाली मलयालम फिल्म एक्ट्रेस प्रिया प्रकाश का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। जिसमें वह कजरारी आंखों से अपने बॉयफ्रेंड को आंख मारती दिखी थीं। प्रिया प्रकाश के खिलाफ इससे पहले भी केस दर्ज हो चुका है।

सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई इस नई पिटीशन में ‘मनिक्य मलाराया पूवी गाने को फिल्म से हटाने की मांग की गई है। इस गाने के खिलाफ फरवरी में भी महाराष्ट्र के एक स्थानीय संगठन ने मुस्लिमों की भावनाएं आहत होने का आरोप लगाया था। फिल्‍म के निर्देशक ओमर लुलु के खिलाफ पुलिस में शिकायत की गई थी।ये वीडियो आने के बाद प्रिया प्रकाश रातोंरात नेशनल क्रश बन गई थीं। प्रिया प्रकाश का ये वीडियो उनकी डेब्यू फिल्म ‘ओरू अदार लव का है।

इसके गाने ‘मनिक्य मलाराया पूवी में प्रिया स्कूल की असेंबली में अपने बॉयफ्रेंड को अनोखे अंदाज में आंख मारकर अपने प्यार का इजहार करती हैं। इसके बाद प्रिया प्रकाश के दो और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हुए थे। इनमें से एक वीडियो में वह क्लास रूम में अपने बॉयफ्रेंड को आंख और हाथ से निशाना बनाती दिखती हैं, जबकि दूसरा वीडियो होली पर जारी किया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper