प्रौद्योगिकी में उत्कृष्टता हासिल करें, लेकिन खुद का रोबोट संस्करण न बनें: पीएम मोदी

कानपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को छात्रों और युवाओं से प्रौद्योगिकी में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए कहा, लेकिन साथ ही कहा कि मानवीय तत्व को नहीं भूलना चाहिए। आईआईटी कानपुर के 54वें दीक्षांत समारोह में बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, प्रौद्योगिकी की अपनी ताकत है लेकिन आपको मानवीय तत्व को नहीं भूलना चाहिए। खुद का रोबोट संस्करण न बनें। भावनाओं को न भूलें और दयालुता के लिए कोई पासवर्ड नहीं होना चाहिए। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ठीक है लेकिन मानव बुद्धि को भी महत्व दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जीवन में, आराम और चुनौती के बीच एक विकल्प होगा लेकिन आपको हमेशा चुनौती का चयन करना चाहिए क्योंकि यही आपको आगे ले जाएगा। यह एक महान क्षण है कि जब भारत स्वतंत्रता के 100 वर्ष मनाएगा, आप इसकी यात्रा का हिस्सा होंगे। पिछले सात वर्षों में, स्टार्टअप, स्टैंड-अप और अटल इनोवेशन मिशन हुए हैं जो अपार अवसर प्रदान करते हैं। हमने नीति अवरोधों को हटा दिया। आज, भारत 50,000 स्टार्टअप के साथ दूसरा और 75 यूनिकॉर्न के साथ तीसरा सबसे बड़ा देश है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज लगभग हर क्षेत्र प्रौद्योगिकी से संचालित है और आपके पास अपने सपनों को साकार करने के लिए एक विशाल कैनवास है। आप देश को दिशा और गति दे सकते हैं। उन्होंने कहा, आप देश के भविष्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। अब आत्मनिर्भर बनने का समय है- यहां तक कि आपके माता-पिता भी चाहेंगे कि आप अपने पैरों पर खड़े हों।

प्रधानमंत्री ने छात्रों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उनकी सरकार उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार रहेगी। छात्रों को राष्ट्रीय ब्लॉकचैन परियोजना के तहत संस्थान में विकसित एक आंतरिक ब्लॉकचेन-संचालित तकनीक के माध्यम से डिजिटल डिग्री जारी की गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper