फिरोज गांधी कालेज में भव्य डांसिंग एवं सिंगिंग चैरिटी प्रतियोगिता का आयोजन

रायबरेली। निर्धन व असहाय लोगों की मदद करना व उनके लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा रखना और इसके लिए कार्य करना ही अपने में एक बहुत बड़ी बात है। सामाजिक कार्यो में बढ़चढ़ कर आगे रहने वाली संस्था सरवार्थ फाउण्डेशन के संयोजन में इसी प्रकार एक चैरिटेबल प्रोग्राम का आयोजन किया गया। जिसमें नेत्रहीन एवं समाज में उपेक्षित बच्चों को आगे लाने व समाज में उन्हें एक पहचान दिलाने का प्रयास किया गया। सरवार्थ फाउण्डेशन के संयोजन एवं बाला जी सेवा मण्डल के सहयोग से स्थानीय फिरोज गांधी कालेज के इन्दिरा गांधी सभागार में एक भव्य डांसिंग एवं सिंगिंग चैरिटी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसके मुख्य अतिथि इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायाधीश अरविन्द कुमार त्रिपाठी जी रहे एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, संदीप तिवारी उर्फ पिंटू, वी.के. त्रिपाठी उपस्थित रहे। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्यअतिथि एवं विशिष्ट अतिथि द्वारा दीप प्रज्ज्वलन एवं माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण के साथ हुआ।

सर्वप्रथम जीवनपथ नेत्रहीन विद्यालय तिलोई से आये हुए नेत्रहीन बच्चों ने माँ सरस्वती व गणपति वंदना के साथ कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। नेत्रहीन बच्चों की प्रस्तुति ने सभी उपस्थित अतिथियों एवं श्रोताओं का मन मोह लिया। नेत्रहीन बच्चों की इस प्रस्तुति के लिए न्यायाधीश ने बच्चों के प्रोत्साहन के लिए सभी नेत्रहीन बच्चों को पॉच-पॉच सौ रूपये आशीर्वाद के रूप में दिये एवं सरवार्थ फाउण्डेशन के इस नेक कार्य के लिए उन्हें भी आर्थिक मदद देने का आश्वासन दिया। कार्यक्रम में दिव्यांग सबा खॉन का भी उनके कार्यो के लिए सम्मानित किया गया। न्यायाधीश ने अपने उद्बोधन की शुरुआत एक श्लोक ‘निर्मल मन जन सो मोहि पावा। मोहि कपट छल छिद्र न भावा।।’ से की। उन्होने कहा कि फाउण्डेशन द्वारा नेत्रहीन व दिव्यांग बच्चों के लिए किये जा रहे इस प्रकार के कार्य प्रशंसनीय है इससे समाज में एक अच्छा संदेश जाता है। उन्होने नेत्रहीन बच्चों द्वारा किये गये कार्यक्रम की प्रशंसा की और कहा कि जो व्यक्ति व संस्था इस प्रकार के बच्चों व लोगों की मदद करता है ईश्वर उनकी मदद करता है।

एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने फाउण्डेशन के इस उत्कृष्ट कार्यो के प्रोत्साहन के लिए फाउण्डेशन को रूपये एक लाख देने की घोषणा की। उन्होने कहा कि सर्वसमाज के विकास के लिए सभी को कार्य करना चाहिए और अपनी आमदनी का कुछ हिस्सा समाज के उत्थान व असहाय लोगों की मदद में करना चाहिए। उन्होने कहा कि मैं सरवार्थ फाउण्डेशन एवं उनके सहयोगी बाला जी सेवा मण्डल के इस सेवा कार्य से काफी प्रभावित हूँ और मैं इनका सहयोग आगे भी करता रहूँगा।

इससे पूर्व डांसिंग एवं सिगिंग प्रतियोगिता में दयावती मोदी पब्लिक स्कूल, रामाकृष्णा पब्लिक स्कूल सहित जनपद व गैरजनपदीय बच्चों ने प्रतिभाग किया। डांसिंग एवं सिंगिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार जोहैब, द्वितीय पुरस्कार उदय कसौंधन एवं हबीबा खॉन को संयुक्त रूप से दिया गया एवं तृतीय पुरस्कार शालू एवं शैलवी को दिया गया। बच्चों को पुरस्कार के रूप में नगद पुरस्कार एवं मोमेण्टो आदि भेंट किये गये।

फाण्डेशन की अध्यक्ष प्रिया शुक्ला एवं सचिव सारिका शुक्ला ने सभी आये हुए अतिथियों का कार्यक्रम में आने व उसे सफल बनाने के लिए साधुवाद दिया और आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का सफल संचालन सूरज शुक्ला, कीर्तिका सिंह, प्रतीक्षा श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर रमेश चन्द्र शुक्ल, सतीश चन्द्र शुक्ल, राधेश्याम कर्ण, आलोक कुमार सिंह, अतुल गुप्ता, आर.पी. सिंह, संदीप जैन, वन्दना कश्यप, रवि दीक्षित, वरुण शुक्ल, आनन्द कर्ण, राहुल श्रीवास्तव, अमित श्रीवास्तव, निकुंज मल्ल, पवन गुप्ता, सौरभ सिंह, उमेश पाण्डेय, रोहित सोनकर, प्रियंका श्रीवास्तव, दीपांजलि त्रिपाठी, नेहा रहमानी, नेहा सिंह आदि उपस्थित रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper