फिर सामने आई डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही, गर्भवती महिला की कर दी नसबंदी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के लखनऊ जनपद में एक बार फिर डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। काकोरी सामुदायिक स्वास्य केंद्र पर डॉक्टरों पर आरोप है कि कि लापरवाही के चलते एक गर्भवती महिला की पांच दिन पहले शुक्रवार को नसबंदी कर दी। सोमवार को महिला को परेशानी बड़ी तो परिजन आनन-फानन में महिला को लेकर सीएचसी पहुंचे। जहां से डाक्टरों ने अपनी करतूत छिपाने के लिए पीड़िता को किसी अच्छे निजी अस्पताल में दिखाने की सलाह दे दी।

परिजन एक निजी अस्पताल में महिला का इलाज करा रहे है। जहाँ पीड़िता का मंगलवार रात को ऑपरेशन किया जायेगा। काकोरी के शाहपुर गांव की निवासी गुड़िया पत्नी कामता प्रसाद उम्र 25 वर्ष की पांच दिन पहले पिछले शुक्रवार को सामुदायिक स्वास्य केंद्र काकोरी पर नसबंदी कर दी गई। जबकि गुड़िया वर्तमान में गर्भवती है। नशबंदी करने से पहले महिला की सभी जरूरी जांचे भी कराए जाने का प्राविधान है। फिर भी काकोरी समुदायिक स्वास्य केंद्र पर शुक्रवार यानी 9 फरवरी को पीड़िता की नसबंदी कर दी गई।

नशबंदी डा. रश्मि एवं उनकी टीम ने किया था। सोमवार को पीड़िता को परेशानी होने पर जब उसके परिजन लेकर सीएचसी काकोरी पहुंचे तो परिजनों का आरोप है कि वहां की डाक्टर ने किसी निजी हॉस्पिटल में ले जाने की सलाह दी। जिस पर परिजन पीड़ित को राजधानी के एक निजी अस्पताल में ले जाकर भर्ती करा दिया। जिसकी जांच में यह स्पष्ट हुआ कि महिला गर्भवती है और उसका बच्चा सम्भवता स्टोन में फस जाने के कारण उसको परेशानी बढ़ गई है। जिसका मंगलवार को ऑपरेशन किया जाना है।

गर्भवती महिला का ऑपरेशन नहीं किया जा सकता है। यदि ऐसा हुआ है तो गलती से हो सकता है। इस संबंध में जानकारी लेना चाहा तो टाल मटोल जवाब दिया। और कहा कि सीएचसी ले आओ दिखवा दूंगी। कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। काकोरी सीएचसी की अधीक्षक डा. ज्योती कामले ने बताया कि गर्भवती महिला की किसी भी स्थिति में नशबंदी करना उचित नहीं है। यदि ऐसा हुआ है तो जांच कराकर जिम्मेदारों पर कार्यवाही की जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper