फूलगोभी खाइए और सेहत बनाइए

हमारे देश में फूलगोभी की भरपूर पैदाइश होती है। इस मौसम में बाजारों में आसानी से मिल जाने वाली यह सब्जी अपने आप में ढेर सारे गुणों को समेटे हुए है। आइये जानते हैं कि इस ठण्ड के मौसम में फूलगोभी हमारी सेहत और तंदुरुस्ती कैसे बढ़ा सकती है। फूलगोभी में प्रोटीन, फॉस्फोरस, लौह तत्व, पोटैशियम, गंधक, नियासीन और विटामिन सीं आदि तत्व अधिक मात्रा में पाये जाते हैं।

गंधक एवं क्लोरीन घटकों की मात्रा होने के कारण यह शरीर की अंदरूनी गंदगी को साफ करने का काम करती है। फूलगोभी ना सिर्फ सेहत बनाती है बल्कि यह चेहरे के दागों को भी दूर करती है। अगर आपके चेहरे पर तिल के निशान है तो उस जगह पर रोज गोभी का रस लगाए। इससे कुछ ही दिनों में टिल के दाग छू मंतर हो जायेंगे।

गंधक की अधिकता के कारण फूलगोभी खून को साफ करती है जिसके चलते चर्म रोगों से भी मुक्ति मिलती है। फूलगोभी का सलफोराफीन रसायन दिल की सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। अगर आपको कब्ज़ की शिकायत रहती है तो में रात में गोभी का रस पीने से आपको लाभ होगा।

अगर आपको कभी चोट लग जाए चोट तो जख्म पर गोभी के पत्तों को गरम पानी में धोकर उसके बाद उन्हें कपड़े में सुखाकर चोट पर लगाएं, ऐसा करने से आपको फायदा होगा। गोभी का रस पीने से ऑंखों की कमजोरी दूर होती है और पीलिया दूर करने में मदद मिलती है। गोभी के पत्तों को कुचलकर रस तैयार कर कुल्ला करने से मसूढ़ों से खून का निकलना बंद हो जाता है। साथ ही कच्ची फूल गोभी को चबाने से मसूडों की सूजन भी दूर होती है। देखा आपने कितना गुणकारी है यह फूलगोभी। फिर सोच क्या रहे हैं इस बार की फूलगोभी को अपने भोजन में शामिल कीजिये और सेहत से नाता जोड़िए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper