‘फेल हुई तो ब्याह कर देंगे’ घरवालों की बातें सुनकर बंद कमरे की पढाई, 6 महीने के बाद IAS बन घर लौटी थी निधि, 83वीं रैंक के साथ टॉप

लडकियों के उपर उनकी शादी का प्रेशर हमेशा रहता है ये प्रॉब्लम गाँव और शहर दोनों जगह रहने वाली लडकियों को देखने के मिलती है. अगर किसी क्लास में फेल हो जाती हैं तो उनकी उसी साल शादी कर दी जाती है ऐसा ही कुछ हुआ निधि के साथ. गुरुग्राम, हरियाणा की रहने वाली निधि सिवाच की जिंदगी पढ़ाई और शादी के बीच लटकी थी। निधि सिवाच आज IAS अफसर हैं.

निधि हरियाणा की रहने वाली हैं निधि ने ग्रेजुएशन भी हरियाणा के एक कॉलेज से किया और मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद हैदराबाद की एक कंपनी में जॉब करने लगीं। यहाँ कुछ दिन नौकरी करने के बाद निधि ने जॉब छोड़ दी और देश की सेवा करने का मन बना लिया.

परिवार वालो ने रखी शादी की शर्त

निधि जब पहली बार पेपर देने के लिए तयारी कर रही थी तब उनके पास मात्र 3 महीने ही बचे थे सिलेबस भी खत्म नहीं कर पायी थीं। दूसरे अटेम्पट में भी उनकी तैयारी वो नहीं थी जैसी की इस परीक्षा के लिए होनी चाहिए। दो बार असफल होने पर घर वालों ने निधि पर शादी का प्रेशर डालना शुरू कर दिया। फिर निधि ने पिता से एक मौका और मांगा। मां-बाप ने धमकी दी कि, इस बार फेल हुई तो पक्का शादी कर देंगे।

परिवार ने शर्त रखी कि परीक्षा में जिस स्टेज में फेल होंगी उन्हें वहीं से रोककर तुरंत शादी कर दी जाएगी। यानी प्री में फेल हुईं तो वहीं से बाहर, मेन्स में हुईं तो वहां से। इसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और एक कमरे में बंद होकर तैयारी शुरू कर दी. दिन रात पढ़ाई में जुटी रहीं। उन्होंने यूपीएससी की तैयारी के लिए सेल्फ स्टडी का रास्ता अपनाया।

83 वीं रैंक के साथ किया टॉप

निधि ने खुद को कमरे में कैद कर लिया। 6 महीने के बाद उन्होंने अपने घर का मेन गेट देखा, साल 2018 में निधि ने तीसरे प्रयास में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षाप पास की। उन्होंने 83वीं रैंक के साथ टॉप किया और IAS के लिए चुनी गईं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper