फेसबुक को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस को घेरा, कहा- बिजनेस घरानों की तरह व्यवहार कर रही है

नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी की ओर से फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को दोबार पत्र लिखे जाने पर बीजेपी ने तंज कसा है। राज्यसभा में बीजेपी के मुख्य सचेतक शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि फेसबुक लेकर कांग्रेस बिजनेस घरानों जैसा व्यवहार कर रही है। बीजेपी नेता ने रविवार को कहा कि फेसबुक से मुकाबले के लिए कांग्रेस एक बिजनेस घरानों की तरह व्यवहार कर रही है।

शुक्ला ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि यह कांग्रेस और फेसबुक के बीच बिजनेस के लिए एक प्रतियोगिता है। उन्होंने कहा कि हम बहुत स्पष्ट हैं कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली राजग सरकार के तहत, सभी कंपनियों के लिए नियम एक समान हैं और राष्ट्रीय और सार्वजनिक हित के विषय सबसे उपर हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक सामाजिक घृणा का सवाल है, यह हमेशा कांग्रेस पार्टी की ओर से किया गया है इस संबंध में प्रमाण हमेशा मौजूद हैं। शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी पूरे समाज की पार्टी बन गई है। प्रत्येक देशवासी नरेंद्र मोदी सरकार को पसंद करता है। उन्होंने कहा कि भारत के लोग कांग्रेस के खिलाफ हैं। इसलिए यह उनकी समस्या है हमारी नहीं।

बता दें कि अमेरिकी अखबार ‘वाल स्ट्रीट जर्नल’ में भी पिछले दिनों इसी तरह की एक खबर प्रकाशित हुई थी जिसके बाद कांग्रेस ने फेसबुक की भारतीय इकाई और बीजेपी के बीच सांठगांठ का आरोप लगाया था और जुकरबर्ग को पत्र लिखकर इस मामले की विस्तृत जांच कराने की मांग की थी। इधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसका व्हाट्सएप पर नियंत्रण (Hold) है। उन्होंने कहा कि इस प्लेटफॉर्म को भारत में भुगतान सेवा शुरू करने के लिए केन्द्र की मोदी सरकार से मंजूरी की आवश्यकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper