फेसबुक ने माना, 5.62 लाख भारतीयों का लीक हुआ डाटा!

नई दिल्ली: फेसबुक ने मान लिया है कि कैंब्रिज एनालिटिका (सीए) से डाटा साझा करने में करीब 5.62 लाख भारतीयों का डाटा शामिल होने की आशंका है। सोशल मीडिया की इस दिग्गज कंपनी ने माना कि उसने 8.70 करोड़ लोगों का डाटा सीए के साथ साझा किया था। फेसबुक ने गुरुवार को स्वीकार किया कि 8.70 करोड़ लोगों में से करीब 7.80 करोड़ यूजर्स अमेरिका के हैं।

इंडोनेशिया और ब्रिटेन के भी करीब 10-10 लाख लोगों की जानकारी फेसबुक ने सीए को दी थी। सरकार के नोटिस के जवाब में फेसबुक ने कहा है कि केवल 335 भारतीय ही सीधे तौर पर प्रभावित हुए हैं क्योंकि उन्होंने ग्लोबल साइंस रिसर्च लिमिटेड द्वारा विकसित माइडिजिटललाइफ नामक एप को डाउनलोड किया था। इसके जरिये सीए ने डाटा हासिल किया था। भारत में फेसबुक के करीब 20 करोड़ यूजर्स हैं।1इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रलय के अधिकारियों ने फेसबुक का जवाब मिलने की पुष्टि की है।

मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ने सीए से छह सवालों के जवाब मांगे हैं, जिससे यह पता चलेगा कि उसने भारतीयों के डाटा का किस प्रकार इस्तेमाल किया।1फेसबुक के मुख्य तकनीकी अधिकारी माइक श्रइफर ने कहा है कि लोग आसानी से एप को अपनी निजी जानकारी लेने की अनुमति दे देते हैं। इसलिए एप को जानकारी देते वक्त हमें सावधान रहना चाहिए। फेसबुक का कहना है कि वह ऐसी व्यवस्था बनाने जा रहे हैं जहां एप यूजर की व्यक्तिगत जानकारी जैसे धार्मिक या राजनीतिक विचार, रिलेशनशिप स्टेटस, दोस्तों की संख्या, शिक्षा और काम की जानकारी, स्वास्थ्य, किताब पढ़ने, संगीत, न्यूज, खेल, वीडियो संबंधी जानकारी न मांगी जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper