फेसबुक पर ‘‘विदेशी गोरी’ से दोस्ती छात्र को पड़ी महंगी

लखनऊ: फेसबुक पर अंजान ‘‘विदेशी गोरी’ से दोस्ती करना एमबीबीएस छात्र को महंगा पड़ गया। अंजान ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज पहले दोस्ती की। बातचीत के दौरान खुद को सीरिया निवासी बताते हुए पति की युद्ध में मौत होने की बात कही। महिला ने आर्थिक स्थिति का हवाला देकर मदद की मांग की और फिर भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल कर कई बार में 3.33 लाख रुपये ऐंठ लिए। महिला व उसका एजेंट की लगातार हो रही मांग पर छात्र का माथा ठनका। पड़ताल करने पर ठगी का पता चला। पीड़ित ने हसनगंज पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

इंस्पेक्टर धीरेन्द्र प्रताप कुशवाहा ने बताया कि मूल रूप से जनपद बलरामपुर निवासी मो. जावेद खान केजीएमयू से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है। वर्तमान में वह हसनगंज के केजीएमयू के जीएन मिश्रा टीजी हॉस्टल में रहता है। जावेद ने बताया कि मई माह में फेसबुक पर विदेशी महिला ‘‘लारिसा रजान’ की फ्रेंड रिक्वेस्ट आयी। रिक्वेस्ट एक्सेप्ट होने के बाद लारिसा व जावेद के बीच बातचीत होने लगी। विदेशी लारिसा ने बताया कि वह सीरिया की रहने वाली है। उसकी एक बच्ची है। करीब तीन माह पहले पति की युद्ध में मौत हो गयी थी। जावेद व लारिसा में कई दिनों तक बातचीत होती रही। बातचीत में लारिसा ने अपनी आर्थिक स्थिति खराब होने की बात कहते हुए मदद की मांग की।

लारिसा ने उसे भरोसा दिलाया कि जैसे ही आर्थिक स्थिति ठीक होगी वह रुपये लौटा देगी। जावेद का कहना है कि लारिसा ने उसे भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। बातों पर यकीन कर जावेद आर्थिक मदद करने के लिए राजी हो गया। इस पर लारिसा ने कोरियर एजेंट के माध्यम से रुपये मंगवाने की बात कही। इसके बाद लारिसा के एजेंट डा. मुदलाहज ने जावेद से सम्पर्क किया। मुदलाहज ने उसे कई बैंक खाते देते हुए कई बार में रुपये जमा कराए।

लारिसा रजान व उसके साथी एजेंट मुदलाहज ने जावेद से 3.33 लाख रुपये ऐंठ लिए। अभी भी मांग होने पर जावेद को कुछ शक हुआ। पड़ताल की तो पता चला कि विदेशी महिला बनकर जालसाज ठग रहे हैं। पीड़ित जावेद शिकायत लेकर शनिवार को हसनगंज कोतवाली पहुंचा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper