बंगाल ने की ‘क्रूर महिला’ को चुनने की ऐतिहासिक गलती: बाबुल सुप्रियो

नई दिल्ली: बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे सामने आ चुके हैं। प्रचंड बहुमत के साथ तीसरी बार ममता बनर्जी अपनी सरकार बनाने जा रही हैं। बीजेपी की जोरदार कोशिशों के बावजूद भी उसके पाले में बहुमत नहीं जा सका और उसे 77 सीटों के साथ संतोष करना पड़ा। इसी बीच पीएम मोदी, राजनाथ सिंह समेत भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं मे ममता बनर्जी को बधाई दी, लेकिन भाजपा के सांसद बाबुल सुप्रियो ने तृणमूल कांग्रेस को उसकी जबरदस्त जीत पर बधाई देने से इनकार कर दिया।बाबुल सुप्रियो ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए नतीजों पर अपनी नारजगी जताई। उन्होंने कहा कि बंगाली मतदाताओं ने एक ‘ऐतिहासिक गलती’ की है। वह यहीं नहीं रुके। उन्होंने ममता बनर्जी को क्रूर महिला तक कह दिया।

उन्होंने लिखा, “न तो मैं ममता बनर्जी को बधाई दूंगा। न ही कहूंगा कि मैं लोगों के इस फैसले का सम्मान करता हूं। ईमानदारी से सोचें तो बंगाल के लोगों ने बीजेपी को मौका न देकर एक ऐतिहासिक गलती की। इस भ्रष्ट, अक्षम, बेईमान सरकार और सत्ता में एक क्रूर महिला को चुनकर भी उन्होंने गलती की।” बाबुल सुप्रियो ने कहा, “हां, एक कानून के पालन करने वाले नागरिक के रूप में, मैं एक लोकतांत्रिक देश में लोगों द्वारा लिए गए फैसले का पालन करूंगा।”

हालांकि यह फेसबुक पोस्ट बाद में डिलिट कर दिया गया। आपको बता दें कि बाबुल सुप्रियो के उलट पीएम मोदी राजनाथ सिंह और निर्मला सीतारमण जैसे बड़े नेताओं ने ममता बनर्जी को उनकी जीत पर बधाई दी है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर ममता को बधाई दी। उन्होंने कहा है कि बंगाल में जीत के लिए ममता दीदी को बधाई। केंद्र लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए और कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में पश्चिम बंगाल सरकार की हर संभव समर्थन देना जारी रखेगा। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ”पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता दीदी को विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत के लिए बधाई। अगले कार्यकाल के लिए उनको मेरी शुभकामनाएं।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper