बंगाल में हिंसा, ममता सरकार ने राज्यपाल को रानीगंज जाने से रोका

अखिलेश अखिल

दिल्ली ब्यूरो: बंगाल से भी सांप्रदायिक हिंसा की ख़बरें आ रही हैं। हिंसा के साथ ही सूबे की राजनीति भी गर्म हो गयी है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इन दिनों दिल्ली में हैं और आगामी चुनाव को देखते हुए विपक्षी एकता को धार देने में जुटी हुयी है। खबर के मुताबिक़, सूबे के रानीगंज इलाके में रामनवमी को लेकर दो समुदायों के बीच हिंसक बारदातें हुयी हैं जिनमे कई लोग घायल हुए है जिनमे एक पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं।

पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में रामनवमी पर शुरू हुई हिंसा को देखते हुए सूबे के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने बुधवार को लोगों से शांति की अपील की है। राज्‍यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कहा कि हर किसी को शांतिपूर्ण तरीके से अपनी धार्मिक परंपराओं को मनाना चाहिए। हालांकि त्रिपाठी रानीगंज जाने चाहते थे, लेकिन राज्‍य की ममता सरकार ने उन्हें वहां जाने से रोक दिया है। रानीगंज जाने से रोक लगाने पर राज्‍यपाल नाराज हो गये हैं।

इधर खबर मिल रही है कि ममता सरकार ने केंद्र के प्रस्‍ताव को भी खारिज कर दिया है। राज्य में हिंसा की घटना को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार ने रिपोर्ट तलब किया है। इसके साथ ही राज्य के कई जिलों मे हिंसा व अशांति की घटना के मद्देनजर केंद्र सरकार ने अर्द्धसैनिक बल भेजने का प्रस्ताव दिया है। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने राज्य में हिंसा के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को दोषी करार दिया था तथा इस बाबत राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को रिपोर्ट भी दी थी।

इधर केंद्र सरकार द्वारा रिपोर्ट तलब करने के मामले पर राज्य के शिक्षा व संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि इस संबंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। चटर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार कुछ ज्यादा ही चिंता दिखा रही है। राज्य के पुलिस बल व प्रशासन हिंसा पर लगाम लगाने के लिए पर्याप्त है। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन पर्याप्त इसकी कोशिश कर रहा है। यदि पुलिस कोशिश नहीं करती, तो डीएसपी घायल नहीं होते। उन्होंने बाबुल सुप्रियो व रूपा गांगुली पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बाबुल सुप्रियो अपने लोकसभा क्षेत्र में क्यों नहीं हैं? क्या वह गाना गा रहे हैं या रूपा गांगुली अभिनय कर रही हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper