बचपन व वर्तमान सुरक्षित तो देश का भविष्य सुरक्षितः योगी

राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत मुख्यमंत्री ने 199 आंगनबाड़ी केंद्रों का शिलान्यास व 501 केंद्रों का लोकार्पण किया

लखनऊ। 16 सितंबर। बचपन व वर्तमान सुरक्षित है तो देश का भविष्य भी सुरक्षित है। धात्री महिलाओं, किशोरी कन्याओं व बच्चों को जोड़कर भारत के भविष्य को स्वस्थ व सक्षम बनाने में सभी योगदान दें। मां स्वस्थ होगी तो वर्तमान स्वस्थ रहेगा। कन्या, बालक सुपोषित होगा तो हमारा बचपन स्वस्थ व समाज-राष्ट्र सशक्त होगा। शिक्षा व स्वास्थ्य समाज की बुनियादी आवश्यकताएं हैं। आधारशिला यहीं से खड़ी हो सकती है। अच्छी व उत्तम शिक्षा बच्चे के सुनहरे भविष्य के साथ समाज व राष्ट्र की नींव को मजबूत करने का आधार बनता है।

उक्त बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं। वे शुक्रवार को लोकभवन में राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। सीएम ने कहा कि यूपी ने 5 वर्ष से पोषण माह को मिशन मोड पर लेकर बढ़ाया है। तकनीक से जुड़कर अधिक से अधिक लोगों तक शासन की इन योजनाओं का लाभ पहुंचाया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि 60 हजार से अधिक महिला स्वयंसेवी समूहों को जोड़ा गया है। शराब बेचने वाले ईमानदारी से पोषाहार बेच रहे हैं। हर जनपद में नए प्लांट लग रहे हैं। पोषाहार व फूड को समुचित तरीके से पहुंचाया जा रहा है। सबसे बड़ी आबादी का राज्य चुनौतियों के बावजूद सफलता की कहानी कह रहा है। सीएम ने कहा कि 1.70 करोड़ बच्चे आंगनबाड़ी केंद्रों से अपना भविष्य सुरक्षित करते हैं। सक्षम बचपन से सक्षम जवानी आए, देश को प्रतिभावान नौजवान मिलें तो उसकी नींव मजबूत करने की जिम्मेदारी आपकी है। आंगनबाड़ी बहनें बच्चों को रोचक तरीके से अक्षर व शब्द ज्ञान कराती हैं। बचपन को उद्धरण के माध्यम से रोचक जानकारी देते हैं तो बच्चों की नींव मजबूत होती है। उन्होंने हौसलाअफजाई करते हुए कहा कि कोविड के दौरान आंगनबाड़ी बहनों के प्रयासों की सभी ने सराहना की। मुख्यमंत्री ने विभाग की पुस्तिका हर आंगनबाड़ी केंद्रों में पहुंचाने को कहा।

501 आंगनबाड़ी केंद्रों का लोकार्पण व 199 का किया शिलान्यास
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बटन दबाकर 501 आंगनबाड़ी केंद्रों का लोकार्पण व 199 केंद्रों का शिलान्यास किया। पोषण मैन्युअल ‘सक्षम’ तथा विभाग की 5 वर्षों की उपलब्धियों की पुस्तिका ‘सशक्त आंगनबाड़ी’ का विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने ‘सहयोग’ व ‘बाल पिटारा’ ऐप लांच किया। साथ ही ‘दुलार’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इन केंद्रों का लोकार्पण/शिलान्यास कर संतुष्टि हो रही है। इस दौरान उन्होंने बच्चों का अन्नप्राशन व गर्भवती की गोदभराई भी की। बच्चों को दुलारा-पुचकारा।

21700 आंगनबाड़ी केंद्रों के पक्के भवन बनाए गए
सीएम ने कहा कि 2017 में हमारी सरकार बनी तो उस समय 189000 आंगनबाड़ी केंद्रों में से कई के पास खुद का भवन नहीं था। उन सभी को चिह्नित कर 21700 केंद्रों के पक्के भवन बनाए गए। कोरोना में हमारी गति थोड़ी बाधित हुई अन्यथा सभी केंद्रों को प्री-प्राइमरी के रूप में आगे बढ़ा लिए होते।

एनीमिया व शिशु-मातृ मृत्यु दर में यूपी ने काफी सुधार किया
2017 में सीएम बनने के दौरान चुनौती थी कि नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में यूपी सबसे फिसड्डी होता था पर 5 वर्ष के अथक परिश्रम की बदौलत एनीमिया में नेशनल एवरेज में यूपी की स्थिति सुधरी। खून की कमी से उबरने में उत्तर प्रदेश सफल हुआ। शिशु व मातृ मृत्यु दर को काफी हद तक नियंत्रित करने में भी हमने सफलता पाई। इससे पता चलता है कि हम सही दिशा में प्रयास कर रहे और आगे बढ़ रहे हैं।

हर डाटा अपलोड करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम ने पोषण माह को राष्ट्रीय अभियान के रूप में लिया है। उनकी प्रेरणा व मार्गदर्शन में देश में पोषण माह मजबूती से बढ़ा है। उत्तर प्रदेश ने भी इसमें सफलता पाई है। सीएम ने कहा कि कई बार डाटा (परिणाम) अच्छे होने के बावजूद कार्यों को अपलोड न करने के कारण हम पिछड़ते हैं, इसलिए हर डाटा को अपलोड करें। जनपद व शासन स्तर पर मॉनीटरिंग होगी तो सारी जानकारी मिल जाएगी।

आंगनबाड़ी केंद्रों को गोद लें
सीएम ने राज्यपाल का आभार जताया और कहा कि उन्होंने केंद्रों को गोद लेने की कार्रवाई को बढ़ाया। 189000 आंगनबाड़ी केंद्रों को जनप्रतिनिधि, शासकीय, प्रशासनिक, पुलिस, शिक्षा विभाग के साथ समाज के समक्ष तबके को गोद दें। इन्हें गोद लेकर हम सभी बड़ी भूमिका का निर्वहन कर सकते हैं। बता दें कि अभी तक 9963 केंद्रों को गोद लिया जा चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper