बरेली: आईवीआरआई में सात दिवसीय प्रशिक्षण का हुआ समापन

बरेली: भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, इज़्ज़तनगर के कृषि प्रोद्योगिकी सूचना केंद्र के सभागार में लेह, लद्दाख के जिला भेड़पालन कार्यालय के विभाग कर्मियों के लिए “गैर पारंपरिक फ़ीड का उपयोग, खाद और परजीवी रोग निदान” पर सात दिवसीय प्रशिक्षण का आज समापन हो गया । यह कार्यक्रम भेड़पालन विभाग लेह, लद्दाख द्वारा प्रायोजित है एवं संयुक्त निदेशालय, आईवीआरआई, इज्जतनगर द्वारा आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में दो पशु चिकित्सा अधिकारियों सहित कुल छह प्रशिक्षणार्थी ने भाग लिय । इस अवसर पर प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी दिये गए ।

कार्यक्रम के समन्वयक एवं प्रभारी, कृषि प्रोद्योगिकी सूचना केंद्र ने प्रतिभागियों को उनके प्रशिक्षण के सफल होने की बधाई दी एवं आशा व्यक्त की यहाँ आपने जो भी ज्ञान अर्जित किया है उसका प्रयोग अपने अपने क्षेत्रों में जाकर प्रयोग करेंगे जिससे कृषक एवं पशुपालक लाभान्वित हो सके।

समापन अवसर पर प्रतिभागियों ने अपने विचार रखते हुए कहा की यह प्रशिक्षण कार्यक्रम हमारे लिए बहुत लाभदायक रहा । यहाँ हमने विभिन्न विषय जिनमें प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखना, पशुधन स्वास्थ्य और उत्पादन के लिए डिजिटल उपकरण, लद्दाख में पशु आहार: अनुभव, बाधाएं और अवसर, लद्दाख में पशुधन के लिए खनिज मिश्रण तैयार करने पर अभ्यास और फ़ीड नमूनों का अनुमानित विश्लेषण शामिल हैं। लद्दाख में डेयरी पशुओं के लिए संतुलित आहार का निर्माण, प्रोबायोटिक्स और पशु आहार में उनकी भूमिका, पहाड़ियों में जैविक पशुपालन: समस्याएं और बाधाएं, यूरिया मोलासेस मिनरल ब्लॉक फीडिंग और यूएमएमबी और सीसीएफबी की तैयारी पर अभ्यास, रोग निदान के लिए प्रयोगशाला तकनीकों पर अभ्यास, वर्मी खाद और यांत्रिक खाद, चारा उत्पादन आदि के बारे में व्यावहारिक ज्ञान के साथ –साथ प्रयोगात्मक भी सीखा।
बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper