बर्फ की चादर में ढके केदारनाथ और बद्रीनाथ, देखिए वादियों की सुंदर तस्वीरें

केदारनाथ जाना बहुत से लोगों के लिए एक सपने सा होता है. बहुत से लोग इसे पूरा भी करते है तो कुछ के लिए वो मात्र सपना ही रह जाता है. लेकिन अगर आप अब केदारनाथ, बदरीनाथ या औली-मुनस्यारी की वादियां को घूमने की सोच रहे है तो आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि इन दिनों यहां बर्फ की सफेद चादर बिछी हुई है. दरअसल, उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बीते दो दिन से मौसम खराब बना हुआ था. दो दिनों तक बदरीनाथ धाम के साथ कई अन्य ऊंची चोटियों पर जमकर बर्फबारी हुई, जिससे ठंड फिर से बढ़ गई है.

वहीं मौसम को लेकर दो दिन के दौरे पर गए रुद्रप्रयाग के डीएम ने बताया कि केदारनाथ में करीब चार इंच बर्फ जमा है. वहीं, बदरीनाथ में सात इंच और औली में चार इंच ताजी बर्फ जमी है, जबकि हेमकुंड साहिब में करीब एक फुट बर्फ जमी है. यहां पहले से चार फुट बर्फ जमी हुई है. वहीं, पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के चलते राजधानी दून समेत राज्य के विभिन्न जिलों में मौसम का मिजाज अगले चार दिनों तक बिगड़ा रहेगा.

मौसम को लेकर मौसम विज्ञानियों की मानें तो अगले चार दिन तक देहरादून, उत्तरकाशी, चमोली,  टिहरी, पौड़ी, चंपावत, नैनीताल, पिथौरागढ़ समेत राज्य के कई जिलों में खासकर ऊंचाई वाले इलाकों में ओलावृष्टि के साथ बारिश की संभावना है. मौसम विज्ञानियों ने संभावना जताई है कि ओलावृष्टि के साथ कई इलाकों में आकाशीय बिजली भी गिर सकती है. पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के चलते सोमवार को भी राजधानी दून व आसपास के इलाकों में हल्के बादल छाए रहे. पहाड़ी इलाकों में रविवार रात से सोमवार सुबह तक बारिश और बर्फबारी होती रही, जिससे बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, औली, चिनाप वैली, कुवारी पास, गोरसो, जोशीमठ की चोटी स्लीपिंग लेडी सहित अन्य ऊंचाई वाले इलाके बर्फ से ढक गए.

वहीं बदरीनाथ के साथ ही केदारनाथ, द्वितीय केदार मद्महेश्वर और तृतीय केदार तुंगनाथ समेत ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हल्की बर्फबारी हुई. रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय समेत घाटी क्षेत्रों में हल्की बारिश हुई. केदारनाथ धाम में दिन में दो घंटे तक रुक-रुककर हल्की बर्फबारी हुई.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper