बर्बाद होने से बचना है तो घर की महिलाओं को मत करने देना ये 4 काम, तीसरा वाला सबसे खतरनाक

शादी के कुछ समय बाद तलाक होना आम बात हो गई है. एक्सट्रामैरिटल अफेयर्स तलाक की मेन वजह होती हैं. तलाक की वजह ना केवल पुरुष होते हैं बल्कि महिलाओं की कुछ ऐसी हरकतें भी होती हैं जो उन्हें तलाक लेने पर मजबूर करती हैं. शादी के बाद जब महिलाएं ऐसी हरकतें करने लगे तो समझ जाओ घर स्वर्ग से नर्क बन जाता है. घर के नर्क बनाने में सबसे बड़ा हाथ महिलाओं का होता है, अगर वो चाहे तो घर को स्वर्ग बना सकती है और अगर वो चाहे तो घर के नर्क बनने में वक्त नहीं लगता है, इसलिए अगर घर में महिलाएं ऐसे काम कर रही हैं तो उनके पतियों को फौरन रोकना चाहिए.

पति से अलग रहना-
अक्सर घर में पत्नी का दूसरों मर्दों से दोस्ती और अजीब रहन-सहन की वजह से पुरुषों का दिमाग खराब होने लगता है. परिवार की मर्यादा बनाये रखने के लिए महिलाओं के रहन-सहन पर पहले ध्यान रखना चाहिए. लड़ाई-झगड़ों के बीच सबसे पहले महिलाएं घर छोड़कर मयाके में रहने लगती हैं. महिलाओं का ये फैसला उन पर चरित्रहीन जैसे गलत सवाल उठाने लगता है. ऐसा करने से ना ही उनकी इज्जत ससुराल में होती है और ना ही मायके में रहती है.

धुम्रपान करना-
पत्नी का शराब या सिगरेट का सेवन करना उनकी शादीशुदा जिंदगी में बांधा डालने लगती है. वैसे तो शराब शरीर के बहुत हानिकारक है लेकिन अगर पत्नी पर शराब पीने से रोक नहीं लगाई जाती है तो लड़ाई-झगड़े भी होते हैं और बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

पराये मर्दों से दोस्ती-
शादी के बाद सबसे ज्यादा पतियों को पत्नी का दूसरों मर्दों से दोस्ती हड़ती है. अगर वो आपके परिवार के हैं और शादी से पहले बोलचाल होती है तब तो ठीक है लेकिन अगर वो आपके परिवार के भी नहीं है और शादी के बाद तक बातचीत होती है तो पति शक की नजर से देखने लगता है फिर लड़ाई-झगड़े होना तय हैं.

बिना बताये इधर-उधर घूमना-
शादी के बाद हर पति चाहता है कि उसकी पत्नी जो भी काम करें उसे बताकर करें. अगर ऐसा नहीं होता है तो बिना बताये पत्नी इधर-उधर घूमने चली जाती है तो पति के दिमाग शक का कीड़ा दौड़ने लगता है और फिर लड़ाई-झड़गे होना तय है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper