बवासीर से हैं परेशान तो घर में है इसका समाधान, नहीं जाना होगा किसी हकीम के पास

लखनऊ: हमारे आस पास कुछ ऐसे पेड़ पौधे होते हैं जिनके बारे में हम अनजान रहते हैं और कुछ ऐसे पौधे होते हैं जो जहरीले होने के साथ हमारे शरीर को अमृतीय गुण प्रदान करते हैं। पर इसके बारे में अनजान होने के कारण हम इन पौधों से दूर रहते हैं। इसी प्रकार से शिवलिंग में चढ़ाया जाने वाला आक का फूल हैं, जो श्रृद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं तो पूर्ण करता ही हैं साथ ही इसके कुछ चमत्कारी लाभ भी जो हमारे शरीर में अपना विशेष असर डालते हैं। आक का पौधा जिसे हम मंदार,आक या पारद अकौआ के नाम से जानते हैं यह विषैला होता हैं। यह पौधा छोटा और छत्तेदार होता हैं। इसमें सफेद या बैगनी रंग के फूल पाए जाते हैं जो शंकर जी को चढ़ाये जाते हैं।

यह पुष्प जितना विषैला होता हैं उतना ही हमारे शरीर में होने वाले रोगों को दूर करने के औषधिय गुण भी इसमें पाए जाते हैं। जिससे हम अनजान होने के कारण इसका प्रयोग सिर्फ पूजा-पाठ में ही करते हैं। यहां आज हम अकौआ के कुछ ऐसे ही औषधिय गुणों के बारे में बता रहे हैं। जिसे आपको जानकर हैरानी होगी कि इस विषैली पौधे का उपयोग शुगर के लेवल को कम करने में किया जा सकता हैं। बताया जाता हैं कि इससे निकलने वाले दूध को यदि झड़ते बालों में लगाया जाए तो उस स्थान पर बाल आ जाते हैं।

इसके अलावा शुगर के लेवल को कम करने के लिए इसकी पत्ती को उल्टाकर जिसमें खुरदरापन दिखाई दे उस स्थान वाली पत्ती को तवे पर रखकर थोड़ा सा गर्म कर लें और अपने पैर पर सटाते हुए लगाकर मोजा पहन लें। सुबह से लेकर रात तक इसी तरह से लगे रहने दें और सोने से पूर्व इसे पैर से निकाल लें इस तरह करने से आपका शुगर लेवर अपने आप ही समान्य स्थिति में आ जाएगा। साथ ही यह आपके पेट को कम करने में सहायक होता हैं।

अन्य लाभ

अकौआ के पौधे का उपयोग अब हर रोगों के इलाज को दूर करने में काफी किया जाने लगा हैं क्योंकि यह वो औषधीय दवा हैं जिसकी हर चीज फायदेमंद साबित हुई हैं। इससे निकलने वाले दूध से लेकर इसकी पत्ती और फूलों का उपयोग रोगों को दूर करने में किया जाने लगा हैं। यह एक सूर्य के समान तेज और पारे के उत्तम गुण और एक अच्छे रसायनिक यौगिक के गुण इसमें पाये जाते है और इन्हीं अमृतीय गुणों के कारण इसे वानस्पतिक पारद के नाम का दर्जा प्राप्त हुआ हैं।

अकौआ की पत्ती का उपयोग किसी भी तरह के घाव को भरने के लिए या किसी भी तरह की सूजन को दूर करने के लिए किया जाता हैं, इसके लिये आप इसकी पत्ती को तेल में गर्म करके उस स्थान पर लगाये जहां आपको घाव हैं या किसी प्रकार की सूजन और दर्द है इसको लगाने से इसके गुण आपको जल्द ही राहत देने का काम करते हैं।

इसके अलावा बाबासीर के मस्सों को काटनें के लिये एंव बाबसीर में होने वाले दर्द को दूर करने के लिए इसकी फूल या पत्ती के धुएं का उपयोग सिकाई के रूप में किया जाता हैं। जिससे बाबासीर के इलाज में उपयोग करने से राहत मिलती हैं। आखों में होने वाली तकलीफ के समय इसके दूध को पांव के अगूंठे पर लगाकर मालिश करने से आखों का दर्द दूर हो जाता हैं।

हमारे हाथों या शरीर के किसी अंग में कांटा लग जाने पर काफी दर्द होता हैं और इसको निकालना भी मुश्किल होता हैं इसके लिए आप अकौआ के दूध को उस जगह पर लगाएं जहां पर कांटा लगा हुआ हैं। थोड़ी देर बाद आपका कांटा बाहर निकलते हुए दिखाई देने लगेगा। अकौआ के पौधे का उपयोग करते समय सावधानी बरतें क्योकि यह काफी जहरीला पौधा होता हैं। और इसका उपयोग करते समय अपनी आखों को इससे दूर रखें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper