बसपा का आईएनएलडी के साथ गठबंधन ,साथ लड़ेगी हरियाणा और राजस्थान

दिल्ली ब्यूरो: बसपा प्रमुख मायावती बहुत कुछ करती दिख रही है। अगले चुनाव में किसी तरह की चूक ना रहे और पार्टी को जीत हासिल हो इसके लिए मायावती यूपी के अलावा अन्य राज्यों में भी गठबंधन को अंजाम देती नजर आ रही है।2019 के लोक सभा चुनाव के लिए सपा -बसपा गठबंधन होने के बाद अब मायावती ने हरियाणा विधान सभा चुनाव से लेकर लोक सभा चुनाव के लिए आईएनएलडी यानी भारतीय राष्ट्रिय लोकदल के साथ गठबंधन का ऐलान किया है। माना जा रहा है कि इस गठबंधन के बाद हरियाणा में बसपा की हालत मजबूत होगी और बीजेपी की हालत ख़राब हो सकती है। बता दें कि हरियाणा में दलितों की आवादी 20 फीसदी के करीब है और मायावती के प्रति दलित जागरूक रहते रहे हैं।

गौरतलब है कि आईएनएलडी की ओर से इस गठबंधन का ऐलान किया गया है और बताया गया है कि दोनों पार्टियां हरियाणा में अगले साल होने वाला विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगी। साथ ही राजस्थान में इसी साल हो रहे विधानसभा चुनाव में भी साथ ही उतरेंगी। यानी आईएनएलडी के साथ मिलकर बसपा हरियाणा के साथ राजस्थान चुनाव भी लड़ेगी। बता दें कि 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव के वक़्त बसपा ने 4.37 फ़ीसदी वोट हासिल किए थे। उसने 87 सीटों पर चुनाव लड़ा था। वहीं आईएनएलडी ने कुल 90 में 19 सीटें जीती थीं। और उसे 24.11 प्रतिशत वोट मिले थे। ऐसे में दोनों दलों का गठबंधन सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के लिए चुनौती बन सकता है।

यही नहीं बसपा ने कर्नाटक के विधानसभा चुनाव के लिए भी जनता दल-सेकुलर (जद-एस) से गठबंधन किया है। कर्नाटक की कुल 6.5 करोड़ की आबादी में दलित 19.5 फ़ीसदी हैं। इसी के मद्देनज़र बसपा ने वहां 2013 का चुनाव अकेले लड़ा था। हालांकि तब उसे वहां 0.91 प्रतिशत वोट ही मिले थे। दूसरी तरफ़ जद-एस ने कुल 20.19 प्रतिशत वोट हासिल कर 40 सीटें हासिल की थीं। लेकिन अबकी बार बसपा राज्य में सीधे तौर पर जद-एस के लिए मददग़ार हो रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper