बसपा ने बाबा साहेब के अपमान को भुला दिया : मोदी

कन्नौज: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाजवादी पार्टी (सपा)और बहुजन समाज पार्टी(बसपा) पर निशाना साधते हुए कहा कि जनता दोनों पार्टियों के अवसरवाद को अच्छी तरह जानती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सपा ने कैसे बाबा साहेब आंबेडकर का अपमान किया था, उसे बसपा ने भुला दिया है। प्रधानमंत्री ने शनिवार को यहां एक चुनावी जनसभा में कहा, “ये मत भूलिए तिर्वा में समाजवादी पार्टी ने कैसे बाबा साहेब आंबेडकर का अपमान किया था। यह बसपा ने भुला दिया है। सत्ता के लिए, कुर्सी के लिए बाबा साहेब का अपमान करने वाले लोगों को मायावती गले लगाती हैं।”

उन्होंने कहा, “बसपा ने बाबा साहेब के नाम पर मेडिकल कालेज का नाम रखा था, सपा ने बाबा साहेब के नाम की पट्टी को उखाड़ दिया था। अब आज बहनजी उसी सपा के लिए खुशी-खुशी वोट मांग रही हैं।” उन्होंने कहा कि आज पूरा देश मोदी के लिए दुआ मांग रहा है। सभी लोग एकमत हो कर कह रहे हैं कि महामिलावटी लोगों ने मोदी को 100 गाली दी है। आतंकवाद को एक भी गाली नहीं दी। सपा-बसपा वाले बताएं कि आप आतंकवाद से डरते हैं क्या? मोदी ने राहुल गांधी का नाम लिए बिना ही उन पर तंज कसते हुए कहा, “देश में कुछ ऐसे बुद्धिमान और तेजस्वी लोग हैं जो आलू से सोना बना सकते हैं। न ही हम ये कर सकते हैं और न ही ये वादा कर सकते हैं। भाजपा संभव कार्य करेगी। किसानों की आय दोगुनी करने के लिए ये सरकार प्रयासरत है।”

उन्होंने कहा कि विपक्षियों का धंधा ‘जात-पात जपना-जनता का माल अपना’ है। चुनाव के दौरान ये पार्टियां मोदी की जाति का राग अलापना शुरू कर देती हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, “हम देश में केसरिया क्रांति करना चाहते हैं। हिंदू विरोधी लोगों के रौंगटे खड़े हो जाते हैं केसरिया रंग सुनकर। वह रात तक मेरे बाल नोचने लगेंगे। केसरिया रंग ऊर्जा का प्रतीक है। हम देश में ऊर्जा की क्रांति लाएंगे।” उन्होंने कहा, “तीसरे चरण के चुनाव के बाद जनता ने तय कर दिया है – फिर एक बार मोदी सरकार। इसीलिए ये महामिलावटी अब बौखलाए हुए हैं। इन महामिलावट करने वालों ने चौकीदार को गालियां दी, रामभक्तों को गालियां दीं लेकिन हुआ क्या, इनका खेल खत्म हो गया।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper